7 PLA Linked Companies in India

भारत में बिजनेस कर रही कंपनियों का चीनी सेना से संबंध, बड़ा ऐक्शन लेने की तैयारी में मोदी सरकार

New Delhi: मोदी सरकार ने भारत में चल रही कम से कम 7 ऐसी कंपनियों की पहचान (7 PLA Linked Companies in India) की है, जिनका कथित रूप से सीधे तौर पर या फिर अप्रत्यक्ष रूप से चीन की सेना (Chinese army PLA) से संबंध है। इसकी जानकारी मामले से जुड़े एक शख्स ने दी है।

इसके अलावा चीन की कंपनियों की तरफ से भारत में किए गए निवेश पर भी सरकार नजर रखे हुई है, क्योंकि इस बात का शक है कि चीन की सेना भारत के खिलाफ यहां से मिले फायदों का इस्तेमाल कर सकती है। मामले से जुड़े शख्स ने कहा कि इन कंपनियों (7 PLA Linked Companies in India) की अभी सिर्फ पहचान की गई है। इनके खिलाफ सरकार कोई एक्शन लेगी या नहीं और क्या एक्शन लेगी, इस पर फैसला होना अभी बाकी है।

ये हैं वो 7 कंपनियां

जिन 7 कंपनियों (7 PLA Linked Companies in India) की सरकार ने पहचान की है, उनमें अलीबाबा, टेंसेंट, हुवावे, एक्सइंडिया स्टील्स लिमिटेड (जो भारत और चीन के बीच सबसे बड़ा ज्वाइंट वेंचर है), जिंज़िंग कैथे इंटरनेशनल ग्रुप (जिसने छत्तीसगढ़ में एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट 1000 करोड़ रुपये के निवेश से शुरू की है।) चाइना इलेक्ट्रॉनिक्स टेक्नोलॉजी ग्रुप कॉरपोरेशन और एसएआईसी मोटर कॉरपोरेशन लिमिटेड ( एसयूवी एमजी हेक्टर की पैरेंट कपंनी) हैं।

एमजी मोटर्स पर भी शक!

एसएआईसी मोटर कॉरपोरेशन लिमिटेड कंपनी भारत में सबसे लोकप्रिय एसयूवी एमजी हेक्टर की पैरेंट कंपनी है। ये गाड़ी एमडी मोटर्स द्वारा बनाई जाती है। नैनजिंग ऑटोमोबाइल भी एसएआईसी मोटर कॉरपोरेशन लिमिटेड की ही एक सब्सिडियरी कंपनी है, जो पहले चीन की सेना की व्हीकल सर्विसिंग यूनिट थी। ये सब चीन के वेंचर कैपिटल के भारत में निवेश पर सवालिया निशान लगाते हैं, जिसमें अलीबाबा और टेंसेंट जैसे बड़े नाम भी शामिल हैं।

अमेरिका भी कर चुका है ऐसी कंपनियों की पहचान

ये नया खुलासा तब हुआ है जब भारत ने चीन के 59 ऐप्स पर बैन लगा दिया है। बता दें कि जिस तरह की कंपनियों की पहचान अब भारत ने की है, कुछ वैसी ही 20 कंपनियों की पहचान जून के दौरान अमेरिका भी कर चुका है। सरकार ने 2018 में एक इंटरनल स्टडी की थी, जिससे ये पता चला था कि कुछ चीनी कंपनियों ने भारत में स्टार्टअप में निवेश कर के उन पर कंट्रोल कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *