26 11

26/11 Mumbai Attack: 12 साल पहले 60 घंटे तक आतं’कियों ने खेली थी खू’न की होली

New Delhi: 26/11 को 12 साल पूरे हो गए हैं और आज से 12 साल पहले 26 नवंबर 2008 को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पर एक ऐसा आ’तंकी हम’ला (26/11 Mumbai Terror Attack) हुआ जिसके जख्‍म अब तक ताजा हैं। यह तारीख आते ही वह जख्‍म अचानक से हरे हो जाते हैं जिन्‍हें भरने की कई कोशिशें पिछले एक दशक से की जरा रही हैं।

12 वर्ष पहले आज के दिन (26/11 Mumbai Terror Attack) ठीक रात के आठ बजे पाकिस्‍तान से आए आतं’कवा’दियों ने जो तांडव मचाना शुरू किया, वह 60 घंटे बाद जाकर खत्‍म हो सका था। एक दशक बाद मुंबई दौड़ रही है लेकिन हल्‍का सा डर कहीं न कहीं बरकरार है। हम’लों में कुल 164 लोग मारे गए थे। सिर्फ एक छोटी सी नाव पर सवार पाकिस्‍तान से आए लश्‍कर-ए-तैयबा के 10 आतं’कियों ने कभी न रुकने वाली मुंबई पर ब्रेक लगा दिया था।

आतं’कियों का पहला निशाना

26 नवंबर 2008 को लश्‍कर के 10 आतंकी समंदर के रास्‍ते दाखिल हुए। उन्‍होंने 12 जगहों पर फायरिंग और बॉम्बिंग शुरू कर दी। लियोपोल्‍ड कैफ साउथ मुंबई का सबसे मशहूर रेस्‍टोरेंट और बार हैं। कोलाबा स्थित कैफे हमलों में निशाना बनने वाली सबसे पहली जगह था। दो आतंकियों ने यहां पर घुसते ही फायरिंग शुरू कर दी थी। यहां पर हुए हमलों में 10 लोग मारे गए थे और कई लोग घायल हो गए थे।

लियोपोल्‍ड के बाद सीएसटी

मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस में मौजूद यात्रियों पर लश्‍कर के आतंकी अजमल कसाब ने घुसते ही गोलियां बरसानी शुरू कर दी थी।सीएसटी पर आतंकियों ने 50 निर्दोष लोगों की जान ले ली थी। हुसैनसागर एक्‍सप्रेस जो मुंबई से हैदराबाद के बीच चलती है, रात 9:30 बजे स्‍टेशन से गुजरी थी। इसके बाद मुंबई से पुणे के बीच चलने वाली इंद्रयाणी एक्‍सप्रेस स्‍टेशन पर पहुंची थी। ट्रेन के आते ही प्‍लेटफॉर्म 13 पर जोरदार धमाका हुआ और प्‍लेटफॉर्म पर अफरा-तफरी की स्थिति पैदा हो गई थी। लोग इधर-उधर भाग रहे थे और मुस्‍कुराता हुआ कसाब मासूमों पर गोलियां बरसा रहा था। स्‍टेशन पर हमले में 104 लोग घायल हो गए थे।

होटल ताज में दाखिल हुए आतंकी

कुछ आतंकी करीब नौ बजे मुंबई के दो सबसे प्रतिष्ठित होटलों , होटल ताज और ओबेरॉय ट्राइडेंट में दाखिल हो गए। होटल ताज में छह धमाके हुए थे। वहीं एक धमाका ओबेरॉय ट्राइडेंट में हुआ। ताज में आतंकियों ने 200 लोगों को बंधक बनाकर रखा था।भले ही होटल ताज ने हमलों में सबसे ज्‍यादा नुकसान देखा लेकिन आज भी पर्यटकों का भरोसा इस पर कायम है। यह दोनों ही होटल सीएसटी से करीब दो किलोमीटर की दूरी पर हैं।

कामा अस्‍पताल को भी बनाया निशाना

विक्टोरिया टर्मिनल से निकलने के बाद हमलावर कामा अस्पताल पहुंच गए। जहां रात के दस बजते ही एक बड़ा धमाका हुआ, ये धमाका एक टैक्सी में हुआ क्योंकि उसमें बम रखा था और उसने टैक्सी ही नहीं लोगों के भी परखच्चे उड़ा दिए। कामा अस्पताल एक चैरिटेबल अस्पताल है, इसका निर्माण एक अमीर व्यापारी ने 1880 में कराया था। कामा अस्पताल के बाहर ही मुठभेड़ के दौरान आतंकवाद निरोधक दस्ते के प्रमुख हेमंत करकरे, मुंबई पुलिस के अशोक काम्टे और विजय सालसकर शहीद हुए थे।

ताज होटल में हर तरफ आ’तंकी

रात के तकरीबन 10 बजकर 15 मिनट हो चुके थे। आतंकवादी ताज महल होटल को निशाना बना चुके थे। गुंबद में लगी आग आज भी लोगों के जेहन में ताजा है, होटल पर जब हमला हुआ तो वहां डिनर का समय था और बहुत सारे लोग डिनर हॉल में जमा थे तभी अचानक अंधाधुंध गोलियाँ चलने लगीं। सरकारी आंकड़ों की मानें तो ताजमहल होटल में 31 लोग मारे गए और चार हमलावरों को सुरक्षाकर्मियों ने मार गिराया था।

ओबेरॉय में 32 लोगों की मौत

ताज के बाद हमलावरों के निशाने पर ओबेरॉय होटल था,इस होटल में भी हमलावर ढेर सारे गोला-बारूद के साथ घुसे थे। माना जाता है कि उस समय उस होटल में 350 से ज़्यादा लोग मौजूद थे, यहां हमलावरों ने कई लोगों को बंधक भी बना लिया? राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के जवानों ने यहां दोनों हमलावरों को मार दिया लेकिन तब तक 32 लोगों की जान जा चुकी थी।

चाबड हाउस

इसके अलावा हमलावरों ने नरीमन हाउस को भी निशाना बनाया था यहां भी हमलावरों ने कई लोगों को बंधक बनाया था, जिस इमारत में हमलावर घुसे थे वह यहूदियों की मदद करने के लिए बनाया गया एक सेंटर था, यहां के हमलावरों से निपटने के लिए एनएसजी कमांडो को कार्रवाई करने के लिए हेलिकॉप्टर से बगल वाली इमारत में उतरना पड़ा था। यहां सात लोग और दो हमलावर मारे गए थे।

60 घंटे बाद ऑपरेशन खत्‍म

ताज होटल, ओबेरॉय होटल, नरीमन भवन में दर्जनों लोगों की जानें हमलावरों के निशाने पर थी। इनसे निपटने के लिए सुरक्षा बल, एनएसजी, एटीएस, मुंबई पुलिस के जवान चारों तरफ फैल गए। ऑपरेशन शुरू हो गया। शुक्रवार रात साढ़े नौ बजे यानी कि अगले दिन तक होटल ताज, ओबेरॉय होटल, नरीमन भवन को आतंकियों के कब्जे से मुक्त करा लिया गया। ओबरॉय होटल से 50 ग्रेनेड मिले।

मुंबई ATS चीफ हेमंत करकरे हुए थे शहीद

26 नवंबर 2008 को लगभग 60 घंटों तक सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में करीब 160 लोगों की जानें गईं। लेकिन इस अचानक हुए हमले को भी हमारे देश के वीरों ने काबू में कर लिया। ऐसे ही एक वीर थे तत्कालीन एटीएस (ATS) चीफ हेमंत करकरे। जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए आतंकियों का सामना किया और लोगों को बचाते हुए शहीद हो गए। करकरे अपने घर पर रात 9।45 बजे खाना खा रहे थे। इस दौरान छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर आतंकी हमले की खबर उन्हें फोन से मिली।

उन्होंने टीवी देखा तो उन्हें समझ आ गया कि यह मामला गंभीर है। वे उसी समय अपने ड्राइवर और बॉडीगार्ड के साथ सीएसटी के लिए रवाना हो गए। वहां पहुंचने के बाद वे आतंकियों को खोजने के लिए स्टेशन पहुंचे लेकिन वहां पर कोई नहीं था। इसके बाद वे कामा हॉस्पिटल की तरफ बढ़े। इस दौरान सेंट जेवियर्स कॉलेज के पास एक पतली गली में आतंकियों ने एके-47 से उनकी गाड़ी पर ताबड़तोड़ फायरिंग की जिसमें हेमंत करकरे सहित अन्य पुलिसकर्मी भी शहीद हो गए। करकरे की वीरता के लिए उन्हें मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया।

कैसे फांसी पर चढ़ा कसाब

मुंबई में इस हमले को अंजाम देने वाला आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा था। 10 हमलावरों ने ऑटोमेटिक आधुनिक हथियार और ग्रेनेड से हमले को अंजाम दिया था। हमले के बाद एक आतंकी अजमल कसाब को जिंदा पकड़ा गया। 3 महीने में उस पर आरोप सिद्ध हुए। एक साल बाद इस हमले में शामिल डेविड कोलमैन हेडली ने 18 मार्च 2010 को अपना जुर्म स्वीकार किया। 21 नवंबर 2012 को कसाब को फांसी हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *