21.1 C
New Delhi
Sunday, December 4, 2022

ये आतंकवाद का ऑक्सीजन और देश की तबाही का ना’पाक’ षडयंत्र है, अमृतसर में पकड़े गए पाकिस्तानी ड्रोन के बारे में जानते हैं आप?

नई दिल्ली: पड़ोसी देश पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। सोमवार रात करीब 8:30 बजे भारत-पाक सीमा के पास अमृतसर क्षेत्र के छना गांव में एक क्वाड- कॉप्टर ड्रोन को मार गिराया है। ड्रोन के साथ 2.5 किलोग्राम के दो हेरोइन के पैकेट भी बरामद किए गए हैं। इसी सीमा पर यह 4 दिनों में यह तीसरी घटना है। एक दिन पहले रविवार को भी ऐसी ही घटना सामने सामने आई थी। पाकिस्तान से पिछले 9 महीनों में 191 ड्रोन अवैध तरीके से भारत में प्रवेश कर चुके हैं।

बीएसएफ कमांडेंट घनश्याम दास ने बताया कि पाकिस्तान से आने वाले ड्रोन की संख्या बढ़ी है। हमारे जवानों के लिए यह नई चुनौती है। बीती रात हमारे बीएसएफ के जवानों ने ड्रोन की आवाज सुनी और उसे मार गिराया। बाद में सर्च ऑपरेशन चलाया गया जिसमें क्वॉड कॉप्टर ड्रोन के साथ 2 किलोग्राम हेरोइन भी जब्त की गई है।

इस ड्रोन के बारे में जान लीजिए
बीएसएफ ने जिस ड्रोन को पकड़ा है उसे क्वॉड कॉप्टर डीजेआई मैट्रिस कहते हैं। इस सीरीज के ड्रोन को मैपिंग, जांच और सर्वेक्षण में प्रयोग में लाया जाता है। क्वॉडकॉप्टर ड्रोन के बारे में आपने सुना तो बहुत है लेकिन, क्या आप जानते हैं यह काम कैसे करता है। आइए बताते हैं। यह एक खास तरह का ड्रोन होता है। यह एख मल्टीरोटर होता है जिसमें 4 अलग-अलग तरह के पंख लगे होते हैं। इन्हें हम रोटर कहते हैं। इन ड्रोन को आदमी संचालित जरूर करत है लेकिन उसपर सवार नहीं होता। इसे रिमोट कंट्रोल से संचालित किया जाता है। अब इन 4 रोटरों में 2 रोटर घड़ी की दिशा में और बाकी 2 रोटर घड़ी की विपरीत दिशा में काम करते हैं। अब आपके मन में यह सवाल जरूर उठा होगा कि इस क्वॉडकॉप्टर ड्रोन के चारों रोटर एक ही दिशा में क्यों नहीं काम करते। असल में अगर चारों रोटर एक ही दिशा में काम करेंगे तो इस ड्रोन की उड़ान नियंत्रित नहीं की जा सकेगी।

पाकिस्तान कैसे करता है उपयोग
इस क्वॉडकॉप्टर ड्रोन का उपयोग पाकिस्तान अपने तरीके से करता आया है। आतंकियों को हथियार या सामान पहुंचाने का काम पाकिस्तान इस ड्रोन की मदद से करता है। ड्रोन का आकार छोटा होने के चलते हवा में इसे पकड़ना आसान नहीं होता। पाकिस्तान इसकी मदद से घुसपैठ की कोशिशों को अंजाम देता आया है।

कहां होता है अधिक उपयोग
इस खास तरह के ड्रोन का प्रयोग यूं तो वीडियो या तस्वीरों को खींचने में लाया जाता है लेकिन इसका सबसे ज्यादा उपयोग भारतीय सेना के जवान करते हैं। सेना इसका उपयोग सर्वेक्षण जटिल भूभागों की फोटोग्राफी और मवेशियों पर नजर रखने के लिए किया जाता है। जिस ड्रोन को भारत-पाक सीमा के पास अमृतसर क्षेत्र के पास पकड़ा गया है उसका उपयोग पाकिस्तान अलग ढंग से करता आ रहा है। वह अपने नापाक मंसूबों को कामयाब करने की कोशिश करता है लेकिन क्या करें हमारे वीर जवान उसे कामयाब नहीं होने देते।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,119FollowersFollow

Latest Articles