Makar Sankranti 2021: मकर संक्रांति पर जानें काइट फेस्टिवल का इतिहास और महत्व

Webvarta Desk: हर साल उत्तरायन यानी मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2021) के अवसर पर गुजरात में अंतरराष्ट्रीय पतंग महोत्सव (Kite Festival 2020) का आयोजन किया जाता है। हालाकि इस बार कोरोना की वजह से यह फेस्टिवल नहीं मनाया जा रहा। यहां हम आपको इस अंतरराष्ट्रीय पतंग महोत्सव से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बता रहे हैं।

गुजरात के अहमदाबाद में मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2021) से पहले रविवार से लेकर मकर संक्रांति तक पतंग महोत्सव (Kite Festival 2020) का आयोजन किया जाता दै। राज्य के पारंपरिक आयोजनों में से एक पतंग महोत्सव में दुनिया भर के मेहमान हिस्सा लेते हैं। इसके अलावा भारत के अन्य राज्यों से आए अतिथि भी इस खास समारोह में शिरकत करते हैं।

गुजरात के अहमदाबाद शहर में साल 1989 में पहली बार अंतरराष्ट्रीय पतंग महोत्सव का आयोजन किया गया था और तब से हर साल इस महोत्सव का आयोजन हो रहा है। इस साल फेस्टिवल का 30वां साल है। इस काइट फेस्टिवल का मुख्य आकर्षण है अलग-अलग शेप, साइज और कलर में दिखने वाली लाखों पतंगें।

इस फेस्टिवल में सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनियाभर के पतंगबाजी में महारथ हासिल कर चुके लोग शामिल होते हैं। साथ ही इस महोत्सव में बेस्ट पतंग की प्रतियोगिता का आयोजन भी होता है।

उत्तरायन के मौके पर जब मौसम में परिवर्तन हो रहा होता है, सर्दी कम हो जाती है और गर्मी का आगाज होने लगता है, ऐसे समय में पतंग महोत्सव का आयोजन का उद्देश्य लोगों के बीच खुशियां बांटना है। गुजराज टूरिज्म इस महोत्सव का समर्थन करता है और इस महोत्सव का मुख्य इवेंट अहमदाबाद स्थित साबरमती रिवर फ्रंट पर होता है।