23.1 C
New Delhi
Thursday, February 2, 2023

2023 में वैश्विक मंदी की आशंका,भारत को फायदा,यूरोप व अमेरिका को नुकसान

नई दिल्ली, (वेब वार्ता)। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की सालाना बैठक जारी है। इसी बीच दुनियाभर में चिंता बढ़ाने वाले खबर है। आशंका जताई जा रही है कि 2023 में वैश्विक मंदी आ सकती है। इसके अलावा अमेरिका और यूरोप में भी मौद्रिक तंगी के आसार हैं। साथ ही जानकारों के बीच यह भी आम सहमति है कि यूरोप और अमेरिका में विकास की संभावनाएं भी कम हैं।

WEF के मुख्य अर्थशास्त्री 2023 में मंदी का आशंका जता रहे हैं। ‘Chief Economists Outlook: January 2023’ में इस बात का खुलासा हुआ है। WEF की तरफ से विज्ञप्ति के अनुसार, ‘करीब दो तिहाई मुख्य अर्थशास्त्रियों का मानना है कि 2023 में वैश्विक मंदी की आशंका है। इनमें से 18 फीसदी इसकी सबसे ज्यादा आशंका जता रहे हैं।’

फोरम के मुताबिक, यह आम सहमति बनी हुई है की 2023 में विकास की संभावनाएं कम हैं। इनमें यूरोप और अमेरिका में स्थिति ज्यादा खऱाब है। चीन के बारे में जानकारों की राय बंटी हुई है। विज्ञप्ति में कहा गया, ‘देश में भारी प्रतिबंधों वाली जीरो कोविड पॉलिसी में ढील देने के फैसले से वृद्धि में बढ़त के आसार हैं, लेकिन यह देखना बाकी है कि नीति में बदलाव स्वास्थ्य के लिहाज से कैसा होगा।’ WEF के मुख्य अर्थशास्त्रियों ने 2023 में उच्च मुद्रास्फीति की संभावनाएं जताई हैं।

भारत की तारीफ
भाषा के अनुसार, भारत छोटे और मध्यम उद्यमों की क्षमताओं को विस्तार देने के लिए अपना खाद्यान तंत्र विकसित करने वाले चुनिंदा देशों में शामिल हो गया है। WEF की सोमवार को जारी एक अध्ययन रिपोर्ट में यह आकलन पेश किया गया। मंच की 53वीं वार्षिक बैठक के पहले दिन जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है कि खाद्यान संकट से निपटने में सक्षम हो चुके देश रोजगार, स्वास्थ्य और प्रकृति में भी उछाल हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा उन्हें शुद्ध-शून्य उत्सर्जन लक्ष्यों को भी हासिल करने में आसानी होगी।

2023 में आ सकती है वैश्विक मंदी 

WEF के सर्वेक्षण के अनुसार, 2023 में वैश्विक मंदी आने की आशंका है. जिसमें खाद्य, ऊर्जा और मुद्रास्फीति पर खास असर देखने को मिलेगा. बांग्लादेश और भारत सहित दक्षिण एशिया देशों की अर्थव्यवस्थाओं वैश्विक रुझानों से फायदा मिल सकता है. वैश्विक व्यापार जगत में उतार चढ़ाव का माहौल पैदा होगा. जिसके कारण वैश्विक स्तर पर माल के आयात और निर्यात में कमी आएगी.

अमेरिका और यूरोप में आएगी मौद्रिक तंगी

रिपोर्ट्स के अनुसार, WEF के मुख्य अर्थशास्त्री समुदाय के अधिकतर लोगों की राय है कि अमेरिका और यूरोप में आगे मौद्रिक तंगी के हालत पैदा होने वाले है. 2023 में वैश्विक मंदी आने की आशंका है. इनमें से 18 फीसदी ने इसकी अत्यधिक संभावना जताई है. यह आंकड़ा सितंबर 2022 में किए गए पिछले सर्वेक्षण की तुलना में दोगुने से भी अधिक जताया जा रहा है.

स्विटजरलैंड ने पूरी की तैयारी 

दावोस में विश्व आर्थिक मंच की वार्षिक बैठक की सुरक्षा के लिए स्विटजरलैंड ने पूरी तैयारी कर ली है. दुनिया भर के हजारों नेताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए इस छोटे से शहर को एक किले में बदल दिया है. इस काम के लिए हजारों सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है. इनमें सेना के करीब 5,000 से अधिक लोग और नागरिक रक्षा सेवा के सैकड़ों पुरुष और महिलाएं शामिल हैं. उन्होंने डब्ल्यूईएफ की बैठक के लिए क्रिसमस से पहले काम शुरू किया और सरकार ने 10-26 जनवरी के बीच 5,000 कर्मियों को तैनात किया है. बैठक समाप्त होने के 1 दिन बाद 21 जनवरी तक दावोस के ऊपर हवाई क्षेत्र प्रतिबंधित रहेगा.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,114FollowersFollow

Latest Articles