गर्म हवाओं ने कैलिफोर्निया में जंगल की आग को और भड़काया

Warmer winds fuel wildfires in California

सैन फ्रांसिस्को (अमेरिका), 11 जुलाई (वेबवार्ता)। अमेरिका के पश्चिमी राज्यों में इस सप्ताहांत एक बार फिर गर्म हवाओं के चलने से अत्यधिक तापमान बढ़ने के कारण उत्तरी कैलिफोर्निया में जंगल की आग बुझाने में दमकलकर्मियों को काफी संघर्ष करना पड़ा। इसके नतीजतन क्षेत्र के भीतर और मरुस्थलीय भूभाग में अत्यंत गर्मी की चेतावनी जारी की गयी।

कैलिफोर्निया के डेथ वैली नेशनल पार्क में शुक्रवार को 130 डिग्री फैरेनहाइट (54 डिग्री सेल्सियस) तापमान दर्ज किया गया और शनिवार को भी तापमान इतना ही रहा। बताया जाता है कि जुलाई 1913 के बाद से यह सबसे अधिक तापमान है जब फर्नेस क्रीक मरूभूमि में 134 डिग्री फैरेनहाइट (57 डिग्री सेल्सियस) तापमान दर्ज किया गया था जो धरती पर अब तक का सबसे अधिक तापमान बताया जाता है।

बेकवर्थ कॉम्प्लेक्स में लगी आग लेक ताहोए के उत्तर में 45 मील (72 किलोमीटर) के क्षेत्र को जद में ले चुकी है और शुक्रवार तथा शनिवार के बीच आग के और भड़कने से सिएरा नेवादा वन क्षेत्र से उत्तर पूर्व की ओर बढ़ रहे दावानल के कम होने का कोई संकेत भी नहीं दिख रहा।

कैलिफोर्निया के उत्तरी पर्वतीय इलाकों में पहले भी कई बार भीषण आग लग चुकी है जिसमें कई मकानों को नुकसान पहुंचा है। हालांकि इस बार आग से किसी मकान को क्षति पहुंचने की सूचना नहीं है लेकिन प्लमास नेशनल फॉरेस्ट में करीब 200 मील (518 वर्ग किलोमीटर) क्षेत्र को बंद करने के साथ ही करीब 2,800 लोगों को वहां से हटने का आदेश या चेतावनी जारी की गयी है।

दमकल सूचना अधिकारी लीजा कॉक्स ने बताया कि शुक्रवार को भीषण गर्म हवाओं से लपटों के साथ धुंए का गुबार देखा गया और गर्म हवाएं आग को और भड़काने का काम कर रही हैं। कॉक्स ने बताया दमकल कर्मी आम तौर पर आग बुझाने के लिए रात के दौरान तापमान कम होने का फायदा उठाते हैं लेकिन गर्मी और कम नमी से इसमें मुश्किल आ रही है। 1,200 से अधिक दमकलकर्मी हेलीकॉप्टर की मदद से आग बुझाने के काम में जुटे हैं लेकिन अभी इसके और धधकने का अनुमान है। हवा शुष्क होने से हेलीकॉप्टर से किया जा रहा पानी का छिड़काव जमीन पर पहुंचने से पहले ही वाष्प में बदल जा रहा है।

‘कैलिफोर्निया इंडिपेंडेंट सिस्टम’ ने बिजली आपूर्ति कम होने की आशंका जतायी है। गवर्नर गेविन न्यूसम ने शुक्रवार को आपात घोषणा जारी की और आईएसओ ने अन्य राज्यों से आपात सहायता का अनुरोध किया है।