भारत की बेटी कमला हैरिस ने रचा इतिहास, उप राष्ट्रपति पद के लिए बनी डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारभारत की बेटी कमला हैरिस ने रचा इतिहास, उप राष्ट्रपति पद के लिए बनी डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार

New Delhi: अमेरिका की विपक्षी डेमोक्रैटिक पार्टी (Democratic Party) ने राष्‍ट्रपति चुनाव में भारतीय मूल की कमला हैरिस (Kamala Harris) को आधिकारिक रूप से उपराष्‍ट्रपति पद के लिए अपना उम्‍मीदवार (Democratic vice presidential nominee) घोषित किया है।

पार्टी (Democratic Party) के ऐलान के बाद भावुक कमला हैरिस (Kamala Harris) ने अपनी मां को याद किया। हैरिस ने कहा कि मेरी मां ने कभी सोचा भी नहीं किया था कि उनकी बेटी उपराष्‍ट्रपति के लिए उम्‍मीदवार (Democratic vice presidential nominee) होगी। इसके साथ ही कमला हैरिस ने अमेरिका में इतिहास कायम किया है।

पहली दक्षिण एशियाई उम्मीदवार

कमला हैरिस (Kamala Harris) पहली अश्‍वेत और दक्षिण एशियाई हैं जिन्‍हें इतने शीर्ष पद के लिए उम्‍मीदवार (Democratic vice presidential nominee) बनाया गया है।

कमला हैरिस (Kamala Harris) ने पार्टी से कहा, ‘मैं अमेरिका के राष्‍ट्रपति चुनाव में आपके उपराष्‍ट्रपति पद के नामांकन को स्‍वीकार करती हूं।’ हैरिस ने कहा कि उनकी दिवंगत मां ने उन्‍हें लोगों की सेवा करना सीखाया था। उन्‍होंने कहा कि काश आज मेरी मां मौजूद होतीं लेकिन मुझे उम्‍मीद है कि वह आसमान से मुझे देख रही होंगी।

वर्ष 2009 में कमला हैरिस की मां का कैंसर से नि’धन

बता दें क‍ि वर्ष 2009 में कमला हैरिस (Kamala Harris) की मां का कैंसर से नि’धन हो गया था। हैरिस अगर तीन नवंबर के राष्ट्रपति चुनाव में निर्वाचित होती हैं तो वह इस पद पर पहुंचने वाली पहली भारतीय-अफ्रीकी महिला होंगी।

हैरिस (Kamala Harris) की मां भारत की थीं जबकि पिता जमैका के निवासी थे। संयोग से हैरिस का अनुमोदन भाषण अमेरिका द्वारा 19वें संविधान संशोधन के अनुमोदन की 100 वीं सालगिरह के एक दिन बाद हुआ। इस संशोधन को सुसैन बी एंथोनी संशोधन भी कहते हैं जिसके जरिए अमेरिकी महिलाओं को मताधिकार मिला था।

हैरिस ने ट्वीट किया, ‘आज से ठीक सौ साल पहले 19वें संशोधन को अनुमोदित किया गया लेकिन दशकों तक अश्‍वेत महिलाएं इस संवैधानिक अधिकार का इस्तेमाल नहीं पाई थीं।’ उन्होंने कहा, ‘मैं डेमोक्रेटिक पार्टी की उपराष्ट्रपति प्रत्याशी नहीं बन पाती अगर मेरे पहले उन्होंने लड़ा नहीं होता और रास्ता नहीं बनाया होता।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *