14.1 C
New Delhi
Thursday, December 8, 2022

पाकिस्तान को तालिबान ने दी चेतावनी, अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों में दखल देना बंद करने की कही बात

काबुल (अफगानिस्तान)। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 77वें सत्र में अफगानिस्तान में आतंकवादी समूहों की मौजूदगी का दावा करने वाले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की टिप्पणी का जिक्र किया। इस दौरान तालिबान ने मंगलवार को पाकिस्तान से अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों में दखल देना बंद करने का आह्वान किया।

अफगानिस्तान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप ना करें पाकिस्तान
टोलो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, राजनीतिक मामलों के तालिबान के उप विदेश मंत्री शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई ने पाकिस्तान से अफगानिस्तान के आंतरिक मुद्दों में हस्तक्षेप करना बंद करने का आह्वान किया। स्टेनकजई ने कहा कि इस्लामिक अमीरात दावों का खंडन और निंदा करता है और वह किसी को भी अफगानिस्तान के प्रति इस तरह के बयान देने की अनुमति नहीं देगा।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की कार्रवाई की कड़ी निंदा
उन्होंने कहा, हम पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की कार्रवाई की कड़ी निंदा करते हैं। हम किसी को भी इस्लामिक अमीरात के खिलाफ बोलने की इजाजत नहीं देते हैं। यदि पाकिस्तान को आर्थिक समस्या है और उसे अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की काली सूची में डाल दिया जाता है, तो कोई भी उन्हें पैसे देने के लिए काल नहीं करता है। यदि आपको (पाकिस्तान) ऋण नहीं दिया जाता है, तो यह आपकी समस्या है, किसी भी तरह से अपना रास्ता बनाएं, लेकिन अफगानिस्तान के लोगों की गरिमा के बारे में बात ना करें और सिर्फ कुछ पैसे कमाने के लिए अफगानिस्तान को बदनाम ना करें।

टोलो न्यूज ने बताया, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान विशेष रूप से इस्लामिक स्टेट-खोरासन (आईएसआईएस-के) और तहरीक-ए तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी), साथ ही अल-कायदा, पूर्वी तुर्किस्तान से संचालित प्रमुख आतंकवादी समूहों द्वारा उत्पन्न खतरे के बारे में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की प्रमुख चिंता साझा करता है।

अफगानिस्ता रहा है आतंकवाद का शिकार
शरीफ के इस बयान पर इस्लामिक अमीरात और अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई की प्रतिक्रिया आई। टोलो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, करजई ने एक बयान में कहा कि अफगानिस्तान आतंकवाद का शिकार रहा है और देश में पाकिस्तानी सरकार के तहत आतंकवादी पनाहगाह सक्रिय हैं और उन्हें अफगानिस्तान के खिलाफ दशकों से इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

इस बीच, अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात के विदेश मंत्रालय ने कहा कि ये सभी आरोप निराधार हैं। राजनीतिक विश्लेषक टोरेक फरहादी ने कहा कि पिछले 40 वर्षों में अफगानिस्तान के युद्ध और शांति में पाकिस्तान की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,120FollowersFollow

Latest Articles