श्रीलंका का दावा- 5000 साल पहले रावण ने ही उड़ाया था पहला विमान

New Delhi: श्रीलंका की सरकार का दावा है कि पांच हजार साल पहले रावण ने पहली बार विमान (Ravana Flew First Plain) का इस्तेमाल किया था।

इस बीच श्रीलंका की सरकार ने एक विज्ञापन जारी कर लोगों से रावण के बारे में कोई भी दस्तावेज शेयर करने को कहा है। यह विज्ञापन पर्यटन और उड्डयन मंत्रालय ने अलग-अलग अखबार में जारी किया।

दरअसल, श्रीलंका के लोगों के लिए रावण एक महान राजा था। विज्ञापन में लोगों से अनुरोध किया गया है कि वे रावण से संबंधित कोई भी दस्तावेज या किताबें शेयर कर सकते हैं ताकि सरकार को पौराणिक राजा और खोई विरासत पर रिसर्च करने में मदद मिल सके। श्रीलंका के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने अब प्राचीन काल में उड़ान भरने के लिए रावण (Ravana Flew First Plain) द्वारा इस्तेमाल किए गए तरीकों को समझने के लिए एक पहल शुरू की है।

श्रीलंका के सिविल एविएशन अथॉरिटी के पूर्व उपाध्यक्ष शशि दानतुंज ने कहा कि उनके पास ये साबित करने के लिए ढेर सारे तथ्य हैं। अगले पांच वर्षों में, हम ये साबित करेंगे।’

पिछले साल नागरिक उड्डयन विशेषज्ञों, इतिहासकारों, पुरातत्वविदों, वैज्ञानिकों का एक सम्मेलन कटुनायके में आयोजित किया गया था। यहां श्रीलंका का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बंदरानाइक स्थित है। सम्मेलन ने निष्कर्ष निकाला था कि रावण (Ravana Flew First Plain) ने 5,000 साल पहले श्रीलंका से आज के भारत के लिए उड़ान भरी थी और वापस आया था।

श्रीलंका में प्राचीन लंका के राजा के बारे में इन दिनों लोगों की खासी रुचि है। श्रीलंका ने हाल ही में रावण नामक उपग्रह को पहले अंतरिक्ष मिशन के तहत भेजा है। श्रीलंका में कई लोग मानते हैं कि रावण एक दयालु राजा और विद्वान था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *