दुनिया का ऐसा देश जहां एक हफ्ते में बदल गए दो राष्‍ट्रपति, पांच साल में चौथी बार बदलाव

New Delhi: विश्‍वभर के लोक‍तांत्रिक देशों में चुनाव के बाद अक्‍सर एक न‍िश्चित समय के लिए राष्‍ट्रपति चुने जाते हैं लेकिन दुनिया का एक ऐसा भी देश है जहां पर एक हफ्ते में दो राष्‍ट्रपति (Peru Got 3rd President) बदल गए हैं। यह देश है लैट‍िन अमेरिका में स्थित पेरू।

पेरू के अस्थिर राजनीतिक सिस्‍टम में 5 साल से भी कम समय में फ्रांसिस्‍को सगस्‍ती देश के चौथे राष्‍ट्रपति (Peru Got 3rd President) बने हैं। सगस्‍ती भी बचे हुए 5 महीने के लिए ही देश के राष्‍ट्रपति बनाए गए हैं।

पेरू में कोरोना महामारी के बीच अप्रैल 2021 में राष्‍ट्रपति पद के लिए चुनाव होने हैं। इससे पहले संसद ने बेहद लोकप्रिय पूर्व राष्‍ट्रपति मार्टिन विजकारा को सत्‍ता से हटाने के पक्ष में वोट दिया था। इसके बाद उनकी जगह आए मैनुअल मेरिनो ने भी इस्‍तीफा दे दिया। राजनीतिक विश्‍लेषकों का कहना है कि वर्तमान संकट पेरू के कई राष्‍ट्रपतियों की गल्तियों और विपक्ष के नियंत्रण वाली संसद कांग्रेस के बीच तकरार का नतीजा है।

विश्‍लेषकों के मुताबिक पेरू की संसद ने कई ऐसे प्रस्‍ताव पारित किए हैं ताकि राष्‍ट्रपति और उनके मंत्री नीतियां नहीं बना सकें। पेरू में विपक्ष की नेता और पॉप्‍युलर फोर्स पार्टी की अध्‍यक्ष केइको फूजीमोरी कड़ी टक्‍कर देने के बाद वर्ष 2016 में चुनाव हार गई थीं। हालांकि उनकी पार्टी ने संसद में ज्‍यादातर सीटें हासिल करने में सफल रही थी। इसके बाद उन्‍होंने कहा था, ‘हम अपने चुनावी घोषणापत्र के प्रस्‍तावों को कानून में बदलने जा रहे हैं।’

साढ़े चार साल के समय में सगस्‍ती चौथे राष्‍ट्रपति

केइको ने संसद के बल पर शासन करने का प्रण किया और राष्‍ट्रपति के साथ उनके संबंध बहुत खराब हो गए। सत्‍ता का यह संघर्ष शिक्षा के क्षेत्र में सबसे ज्‍यादा है। सांसद बार-बार शिक्षा मंत्रियों को हटाने के लिए प्रस्‍ताव पारित कर रहे हैं ताकि निजी विश्‍वविद्यालयों में सुधार लाने की प्रक्रिया को धीमा किया जा सके। नौ नवंबर को कांग्रेस ने भ्रष्‍टाचार के आरोप में राष्‍ट्रपति विजकारा को हटा दिया।

संविधान के नियमों के मुताबिक विजकारा को हटाने के बाद उनकी जगह पर संसद के अध्‍यक्ष मैनुअल मेरिनो राष्‍ट्रपति बने लेकिन उन्‍हें भी व्‍यापक विरोध प्रदर्शन के कारण 5 दिन बाद ही इस्‍तीफा देना पड़ गया। उनकी जगह पर अब 76 साल के सगस्‍ती राष्‍ट्रपति बने हैं। साढ़े चार साल के समय में वह चौथे राष्‍ट्रपति हैं। उन्‍होंने ऐसे समय पर सत्‍ता संभाली है जब नेताओं के खिलाफ जनता का गुस्‍सा चरम पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *