Tuesday , 28 January 2020

अमेरिका में पाकिस्तान के दृष्टिकोण को ठीक तरीके से पेश नहीं किया गया : इमरान खान

वाशिंगटन, 24 जुलाई (वेबवार्ता)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका में उनके देश का दृष्टिकोण ठीक तरीके से पेश नहीं किया गया और वह नेताओं, कांग्रेस के सदस्यों और सीनेटरों तक अपनी बात नहीं पहुंचा पाया। शीर्ष अमेरिकी सांसदों से मिलने मंगलवार को कैपिटोल पहुंचे खान ने कहा कि यह विश्वास और परस्पर सम्मान पर आधारित दोनों देशों के बीच रिश्तों को फिर से जोड़ने का वक्त है।

रेलवे का कोई निजीकरण नहीं कर सकता : पीयूष गोयल

खान ने अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘जहां तक मुझे लगता है कि अमेरिका में पाकिस्तान को ठीक तरीके से पेश नहीं किया गया। मुझे लगता है कि हमारा दृष्टिकोण नेताओं, कांग्रेस सदस्यों और सीनेटरों तक नहीं पहुंच पाया।’’ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह वक्त अमेरिका के साथ अलग तरह का रिश्ता बनाने और परस्पर सम्मान, विश्वास पर आधारित रिश्ते को फिर से जोड़ने का है। इन सबसे ऊपर यह अमेरिका और बाकी दुनिया के हित में है कि अफगानिस्तान में करीब 19 साल से चल रहे युद्ध को राजनीतिक समाधान के जरिए शांतिपूर्ण तरीके से खत्म किया जाए।’’

पेलोसी ने खान का स्वागत किया और उनके साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई, क्षेत्रीय सुरक्षा और अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया के मुद्दों पर चर्चा की। पेलोसी ने अफगानिस्तान में पाकिस्तान की सुलह के प्रयासों के लिए भी उसकी प्रशंसा की। इस बीच अमेरिका के एक शीर्ष सांसद ने कहा कि पाकिस्तान के साथ पूर्ण सहयोग से ही अफगानिस्तान में सम्मान और प्रतिष्ठा के साथ शांति लाना संभव है।

नवाज का इलाज पाकिस्तान में संभव नहीं, विदेश भेजने की जरुरत

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के बीच व्हाइट हाउस में हुई बैठक में मौजूद रहे सीनेटर लिंडसे ग्राह्म ने कहा कि उनका मानना है कि खान, पाकिस्तानी सैन्य नेतृत्व बदलाव और कुशल तरीके से अफगान युद्ध खत्म करने के लिए तैयार है। साउथ कैरोलिना से रिपब्लिकन सांसद ने कहा, ‘‘अगर तालिबान को पाकिस्तान में शरण नहीं दी जाती तो यह युद्ध शीघ्र और हमारी शर्तों पर खत्म हो जाएगा। मुझे उम्मीद है कि हम अमेरिका और पाकिस्तान के बीच मुक्त व्यापार समझौते पर बातचीत कर सके, जो आपसी आर्थिक लाभ और क्षेत्र में स्थिरता बनाए रखने के लिए प्रोत्साहन होगा।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *