पहली बार आमने सामने बात करेंगे मोदी-बाइडेन

नई दिल्ली, 16 सितंबर (वेब वार्ता)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 24 एवं 25 सितंबर को अमेरिका की यात्रा के दौरान राष्ट्रपति जोसेफ आर. बाइडेन के साथ आमने सामने पहली द्विपक्षीय बैठक करेंगे तथा भारत अमेरिका वैश्विक रणनीतिक साझीदारी को अफगानिस्तान एवं हिन्द प्रशांत क्षेत्र में ताजा हालात के मद्देनजर नई दिशा देने पर विचार विमर्श करेंगे। श्री मोदी अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के नेताओं के साथ चतुष्कोणीय (क्वाड) फ्रेमवर्क के प्रथम शिखर सम्मेलन और संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें अधिवेशन में भाग लेंगे।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिन्दम बागची ने यहां नियमित ब्रीफिंग में कहा कि श्री मोदी 24 सितंबर को वाशिंगटन में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन, जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा और अमेरिका के राष्ट्रपति जोसेफ आर. बाइडेन के साथ व्हाइट हाउस में प्रथम क्वाड शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। जबकि 25 सितंबर को वह संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें अधिवेशन को संबोधित करेंगे। इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र महासभा में आम चर्चा की थीम ”कोविड महामारी से उबरने की आशा के साथ एक लचीले प्रतिरोध का निर्माण, सतत पुनर्निर्माण, पृथ्वी की जरूरतों का ख्याल रखना, लोगों के अधिकारों का सम्मान करना और संयुक्त राष्ट्र को पुनर्जीवित करना” है।

श्री बागची ने कहा कि वाशिंगटन में श्री मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति श्री बाइडेन के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे। श्री बाइडेन के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद दोनों नेताओं की यह पहली रूबरू मुलाकात होगी। इसके अलावा वह क्वाड के अन्य सदस्य देशों जापान एवं आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्रियों के साथ भी द्विपक्षीय बैठक करेेंगे। उन्होंने एक सवाल पर यह भी कहा कि श्री मोदी न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के अधिवेशन के दौरान कुछ और विश्व नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठकें करेंगे। विदेश मंत्री एस जयशंकर भी इस दौरान संयुक्त राष्ट्र में ही रहेंगे।

विदेश मंत्रालय के अनुसार क्वाड शिखर बैठक में 12 मार्च को वर्चुअल प्रकार से हुई क्वाड शिखर बैठक के बाद प्रगति की समीक्षा की जाएगी और समान हितों के क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। सम्मेलन अफगानिस्तान, हिन्द प्रशांत क्षेत्र, कोविड महामारी तथा जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर केन्द्रित होगा।

मंत्रालय के अनुसार इस बैठक में कोविड महामारी को नियंत्रित करने के प्रयासों और क्वाड टीकाकरण पहल की समीक्षा की जाएगी। क्वाड नेता स्वतंत्र, मुक्त एवं समावेशी हिन्द प्रशांत क्षेत्र सुनिश्चित करने के लिए अपने समान दृष्टिकोण पर विचार मंथन करेंगे। इसके अलावा महत्वपूर्ण एवं नई उभरती प्रौद्योगिकी, कनेक्टिविटी एवं अवसंरचना, साइबर सुरक्षा, समुद्री सुरक्षा, मानवीय सहायता, आपदा राहत, जलवायु परिवर्तन एवं शिक्षा जैसे समसामयिक वैश्विक मुद्दों पर विचार विमर्श किया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार जापान एवं आस्ट्रेलिया के साथ द्विपक्षीय बैठकें 23 सितंबर को होने की संभावना है। जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय बैठक 24 सितंबर को ही क्वाड शिखर बैठक के पहले या बाद में होने की उम्मीद है। अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी के तौर तरीकों को लेकर श्री बाइडेन अपने देश में तीखी आलोचना के शिकार हैं और भारतवंशी समुदाय एवं भारत से हमदर्दी रखने वाले वर्ग में माना जा रहा है कि बाइडेन प्रशासन ने भारत के भरोसे को तोड़ा है। इससे श्री बाइडेन पर घरेलू राजनीतिक दबाव है। समझा जाता है कि श्री बाइडेन भी प्रधानमंत्री से बात करने के उतने ही उत्सुक हैं।