Wednesday , 22 January 2020
Typhoon-Hagibis-in-Japan

जापान में थमा तूफान ‘हगिबिस’ का कहर, लापता लोगों की तलाश जारी

तोक्यो, 14 अक्टूबर (वेबवार्ता)। जापान की राजधानी तोक्यो समेत देश के अन्य हिस्सों में प्रचंड तूफान ‘हगिबिस’ का कहर थम चुका है लेकिन इसकी वजह से देश के मध्य एवं उत्तरी हिस्से में गहरा नुकसान हुआ और दर्जनों लोग या तो मारे गए या लापता हैं। तूफान की वजह से शनिवार को मूसलाधार बारिश हुई और तेज हवाएं चलीं जिससे हजारों मकान क्षतिग्रस्त या नष्ट हो गए। तूफान की वजह से बिजली एवं संचार व्यवस्था प्रभावित हो गई। प्राधिकारियों ने आगाह किया है कि सोमवार को भी प्रभावित इलाके में बारिश हो सकती है। क्योदो समाचार एजेंसी के अनुसार, तूफान में 35 लोग मारे गए और 17 लापता हैं। दमकल एवं आपदा प्रबंधन एजेंसी के आधिकारिक आंकड़ों में 19 लोगों को मृत तथा 13 को लापता बताया गया है।

 मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि तूफान ‘हगिबिस’ के कारण भीषण बारिश हुई जिससे कई नदियों में जलस्तर क्षमता से अधिक बढ़ गया। उन्होंने बताया कि कीचड़ वाला पानी सड़कों पर, खेतों में और रिहायशी इलाकों में भर गया। हालांकि यह जल स्तर कम हो रहा है लेकिन कई स्थान अभी भी जलमग्न हैं। कई मकान और सड़कें कीचड़ वाले पानी में ही हैं और टूटी लकड़ियां तथा मलबा बिखरा हुआ है। आम तौर पर सूखे रहने वाले कुछ स्थान नदियों की तरह नजर आ रहे हैं। मकानों से हटा कर आश्रय ग्रहों में रखे गए लोग सुबह जलपान के लिए जब एकत्र हुए तो उन्होंने अपने अपने घरों और वहां पड़े सामान को लेकर चिंता जाहिर की। इन लोगों को कड़ाके की सर्दी का भी सामना करना पड़ रहा है। 20 से अधिक नदियां उफान पर हैं और कुछ नदियों का पानी तटबंध तोड़ कर बह रहा है।

भारतीय संस्कृति पर आघात करता ‘बिग बॉस’

नगानो कस्बे में गहरा नुकसान हुआ है जहां चिकुमा नदी के तटबंध पूरी तरह टूट चुके हैं। उत्तरी जापान के मियागी और फुकुशिमा कस्बे में पानी भरा हुआ है। बचाव एवं राहत अभियान युद्ध स्तर पर चल रहा है। बाढ़ में डूबे मकानों में फंसे लोगों को निकालने के लिए रविवार को हेलीकॉप्टरों, नौकाओं तथा हजारों सैनिकों को लगाया गया है। एक दुखद घटना में बचाव अभियान के दौरान एक महिला की हेलीकॉप्टर पर चढ़ते समय गिरकर मौत हो गयी। तूफान हगिबिस ने शनिवार 12 अक्टूबर की शाम को दक्षिणी तोक्यो में दस्तक दी और उसने मध्य तथा उत्तरी जापान में तबाही मचायी। हगिबिस रविवार को उष्णकटिबंधीय तूफान में तब्दील हो गया। तूफान के कारण 216 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली।

 तोक्यो दमकल विभाग ने बताया कि 70 वर्ष की आयु की एक महिला फुकुशिमा के इवाकी शहर में बचाव हेलीकॉप्टर पर चढ़ते समय 40 मीटर की ऊंचाई से दुर्घटनावश जमीन पर गिर गयी जिससे उसकी मौत हो गयी। सरकार की दमकल और आपदा प्रबंधन एजेंसी ने रविवार देर रात कहा कि तूफान के कारण 1,283 मकान जलमग्न हो गए और 517 मकान आंशिक या पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। तोक्यो इलेक्ट्रिक पावर कारपोरेशन (टेपको) ने सोमवार को बताया कि 56,000 से अधिक घरों में अब भी बत्ती गुल है। टेपको के अनुसार, मियागी, इवाते, फुकुशिमा और निगाता में 5,600 मकानों में बिजली नहीं है। तोक्यो इलाके में रविवार की सुबह कई ट्रेन सेवाएं बहाल की गई जबकि अन्यों को बाद में शुरू किया गया।

तूफान की वजह से रग्बी वर्ल्ड कप के कई मैच रद्द कर दिए गए। कई मैचों के समय को आगे बढ़ा दिया गया। तूफान रविवार सुबह राजधानी के कई हिस्सों तक पहुंच गया और इसने आसपास के इलाकों में अपने पीछे तबाही के निशान छोड़ दिए। सेना और दमकल विभाग के हेलीकॉप्टरों ने कई स्थानों पर लोगों को छतों और बालकनियों से बाहर निकाला। इवाकी सिटी, फुकुशिमा में अन्य जगहों पर नौका अभियान चलाकर सैकड़ों लोगों को बचाया गया। तूफान के चलते जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी को उच्च स्तर की वर्षा आपदा की चेतावनी जारी करनी पड़ी। उसने कहा कि ‘‘अभूतपूर्व’’ बारिश की आशंका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *