India-China Standoff: गलवान घाटी में चीन के 43 सैनिक हताहत, हेलिकॉप्टरों की ऐक्टिविटी तेज

New Delhi: पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन की सेना के साथ झड़प (India-China Standoff) में कम से कम 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए हैं लेकिन इस झड़प में चीन को भी भारी नुकसान हुआ है।

सरकारी सूत्रों के मुताबिक चीन के सैनिकों के बीच बातचीत से पता चला है कि उसके 43 सैनिक हताहत हुए हैं। इनमें से कई मारे गए हैं और कई गंभीर रूप से घायल हुए हैं। हालांकि चीन की तरफ से इस बार में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है लेकिन चीनी खेमे में जारी हलचल से इसके संकेत मिले हैं।

सैनिकों को ले जाने आए हेलिकॉप्टर

सूत्रों के मुताबिक चीन के 43 सैनिक हताहत हुए हैं। वहीं, वास्तविक नियंत्रण रेखा के उस पार हेलिकॉप्टरों का आना-जाना तेज हो गया है। न्यूज एजेंसी ANI ने अपने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि ये हेलिकॉप्टर घायल और मृत सैनिकों को ले जाने का काम कर रहे हैं। वहीं, चीन की ओर से अपनी सेना को किसी भी तरह के नुकसान की पुष्टि नहीं की गई है।

भारत और चीन के बीच पेइचिंग में बैठक

पूर्वी लद्दाख सीमा पर पिछले कई दिनों से तनातनी की स्थिति बनी हुई थी। 5 मई को भी दोनों तरफ के जवानों के बीच झड़प में कई सैनिक घायल हो गए थे। ताजा हालात पर भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री और चीनी उप विदेश मंत्री लाउ झाओहुई के बीच हुई बैठक में चीन ने भारतीय पक्ष से कड़ा विरोध दर्ज कराया है। पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने सोमवार को गलवान घाटी में हुए संघर्ष का ठीकड़ा भारत के ऊपर फोड़ते हुए कहा है कि भारतीय सेना किसी भी प्रकार के उकसावे की कार्रवाई से बचे।

चीन ने भारत पर फोड़ा ठीकरा

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिनजियान ने सीमा पर भारतीय सैनिकों की शहादत की जानकारी नहीं होने की बात कही। झाओ ने कहा कि हमारे सैनिकों की उच्चस्तरीय बैठक हुई थी और सीमा पर स्थिति को सामान्य बनाने के बारे में महत्वपूर्ण सहमति बनी थी लेकिन आश्चर्यजनक रूप से 15 जून को भारतीय सैनिकों ने हमारी सहमति का गंभीर रूप से उल्लंघन किया और अवैध गतिविधियों के लिए दो बार सीमा रेखा लांघी और चीन के कर्मियों को उकसाया और उन पर हमले किए जिससे दोनों पक्षों के बीच गंभीर रूप से मारपीट हुई।

भारत में बैठकों का दौर जारी

बॉर्डर के हालात देखते हुए खुद रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ विपिन रावत और तीनों सशस्त्र सेनाओं के प्रमुखों के साथ बड़ी बैठक की है। राजनाथ सिंह के आधिकारिक आवास 24, अकबर रोड पर हुई इस बैठक में सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे, चीफ ऑफ एयर स्टाफ आरकेएस भदौरिया और नौसेना प्रमुख करमबीर सिंह ने हिस्सा लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *