कोरोना वायरस : चीन में अब तक 490 लोगों की मौत

बीजिंग, 05 फरवरी (वेबवार्ता)। चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 490 हो गयी है, जबकि 24,324 लोगों में इस संक्रमण के पाये जाने की पुष्टि हुई है। चीन की सरकारी स्वास्थ्य समिति ने बुधवार को एक वक्तव्य जारी कर यह जानकारी दी। इससे पहले मंगलवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस से 425 लोगों की मौत हो गयी थी और 20,438 मामलों की पुष्टि हुई थी। चीन की सरकारी स्वास्थ्य समिति के मुताबिक चार फरवरी की मध्यरात्रि तक उसे 31 प्रांतों से जानकारी मिली, जिसके अनुसार कोरोना वायरस के 24,324 मामलों की पुष्टि की जा चुकी है जिसमें से 3,219 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। 490 लोगों की मौत हो चुकी है तथा 892 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है।

विश्व में कोरोना वायरस के 20,600 से अधिक मामले : डब्ल्यूएचओ

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट के मुताबिक विश्व भर में कोरोना वायरस के अब तक 20,600 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। डब्ल्यूएचओ की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के आंकड़ों के अनुसार चीन में अब तक कोरोना वायरस के 20,471 मामलों की पुष्टि हो चुकी है जबकि 23,214 अन्य लोगों में कोरोना वायरस के होने का संदेह है। कोरोना वायरस के कारण अब तक 425 लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें अधिकतर वृद्ध लोग शामिल हैं। कोरोना वायरस से ग्रसित 2788 मरीजों की हालत नाजुक बनी हुई है जबकि 680 लोग इस बीमारी से उबर चुके हैं। डब्ल्यूएचओ की ताजा रिपोर्ट के अनुसार चीन से बाहर 24 देशों में कोरोना वायरस के 176 मामलों की अब तक पुष्टि हो चुकी है। डब्ल्यूएचओ ने चीन के बाहर नौ अन्य देशों में कोरोना वायरस के मानव-से-मानव में संक्रमित होने के 27 मामलों की सूची तैयार की है।

कोरोना वायरसः क्या ये बीमारी महामारी भी बन सकती है?

कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर से निकलकर महीने भर के भीतर दुनिया के 20 से भी ज़्यादा देशों में पहुंच गया है। विशेषज्ञ आशंका जता रहे हैं कि ये वायरस और फैलकर पहले से कहीं अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है। हालांकि कोरोना वायरस को अभी तक एक वैश्विक महामारी घोषित नहीं किया गया है। लेकिन दुनिया भर की सरकारें इस संभावना को लेकर तैयारी कर रही हैं कि ये अगली वैश्विक महामारी हो सकती है।

महामारी क्या होती है

महामारी शब्द ऐसी संक्रामक बीमारी के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिसके ख़तरे का एक ही समय में दुनिया भर के लोग सामना कर रहे होते हैं। साल 2009 में फैले स्वाइन फ़्लू को इसके उदाहरण के तौर पर लिया जा सकता है। जानकारों का मानना है कि स्वाइन फ़्लू की वजह से दुनिया भर में बड़ी संख्या में लोग मारे गए थे।

वैश्विक महामारी तब फैलती है जब कोई नया वायरस आसानी से लोगों को संक्रमित कर ले और जिसका संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में हो। कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के सभी मापदंडों को पूरा करता है। ख़ासकर तब जब इसका कोई इलाज या वैक्सीन न हो तो इसके संक्रमण का ख़तरा बढ़ जाता है।

महामारी कब घोषित की जाती है

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार कोरोना वायरस का संक्रमण महामारी का दर्जा हासिल करने से बस एक कदम दूर है। चीन के कई पड़ोसी देशों में इसके संक्रमण के मामले दिख रहे हैं। इतना ही इसके संक्रमण का दायरा बाहर के देशों में फैल रहा है। अगर दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग समुदायों के बीच हम इसके संक्रमण को बढ़ता हुआ देखते हैं तो ये महामारी कही जाएगी।

इसके आसार कितने हैं?

अभी तक ये तस्वीर साफ़ नहीं हो पाई है कि कोरोना वायरस का ख़तरा कितना गंभीर है और ये कहां तक फैलेगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉक्टर टेड्रोस एढॉनॉम ग़ेब्रेयेसुस ने कहा है कि चीन के बाहर कोरोना संक्रमण अभी सीमित है। कोरोना वायरस के संक्रमण के 17 हज़ार मामलों की अभी तक पुष्टि हुई है। अभी तक 360 लोगों की मौत भी हो चुकी है। इनमें से ज़्यादातर मामले चीन के हैं। चीन के बाहर कोरोना वायरस के संक्रमण के 150 मामले सामने आए हैं। फिलीपींस में एक व्यक्ति की मौत हुई है।

डॉक्टर ग़ेब्रेयेसुस ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक बैठक में सोमवार को कहा, “जहां से कोरोना वायरस फैलना शुरू हुआ, अगर वहां पर हम अपनी लड़ाई तेज़ करते हैं तो दूसरे देशों तक इसका संक्रमण कम और सुस्त होगा।” जब तक वायरस फैलना न शुरू हो जाए, हर महामारी अलग होती है, इसलिए इसके पूर्ण प्रभाव का पहले से अंदाजा लगाना, लगभग नामुमकिन है। विशेषज्ञों का ये भी कहना है कि कोरोना वायरस अतीत की दूसरी महामारियों की तुलना में कम जानलेवा है। इस सिलसिले में सार्स का उदाहरण दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *