अमेरिकी कमांडर का खुलासा- ‘लद्दाख में LAC के कई मोर्चों से पीछे नहीं हटा चीन’

Webvarta Desk: अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन के शीर्ष सैन्‍य कमांडर एडमिरल फिल‍िप एस डेविडसन (Top Us Commander Admiral Philip S. Davidson) ने लद्दाख में चल रहे गतिरोध (Ladakh China Standoff) को लेकर बड़ा बयान दिया है।

उन्‍होंने कहा है कि भारत की सेना (Indian Army) के साथ झड़प के बाद चीन ने LAC पर जिन इलाकों पर कब्‍जा किया था, उसमें से कई अग्रिम मोर्चो (Ladakh China Standoff) से पीछे नहीं हटा है। डेविडसन (Top Us Commander Admiral Philip S. Davidson) ने कहा कि अमेरिका ने भारत को सूचना और ठंडे इलाकों में पहने जाने वाले कपड़े तथा अन्‍य उपकरण मुहैया कराकर सीमा विवाद में उसकी मदद की है।

‘यूएस इंडो-पैसिफिक’ कमान के कमांडर एडमिरल फिल डेविडसन ने ‘सीनेट फॉरेन रिलेशन कमिटी’ के सदस्यों से कहा, ‘पीएलए ने शुरुआती झड़प के बाद जिन इलाकों पर कब्‍जा किया था, उनमें से कई अग्रिम मोर्चों से पीछे नहीं हटा है।

उन्‍होंने कहा कि चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर हाल की गतिविधियों ने भारत को यह अहसास दिलाया है कि उनकी अपनी रक्षा संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए दूसरों के साथ सहयोगात्मक प्रयास के क्या मायने हो सकते हैं।

‘चार देशों के गठबंधन (क्वाड) के साथ भारत संबंध गहरा करेगा’

एडमिरल फिल डेविडसन ने सदस्यों से कहा, ‘आप जानते हैं कि भारत ने लंबे समय से रणनीतिक स्वायत्तता का रुख अपनाया हुआ था, गुटनिरपेक्षता का रुख लेकिन मुझे लगता है कि चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हाल की गतिविधियों ने उसे एहसास करा दिया है कि उनकी अपनी रक्षा संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए दूसरों के साथ सहयोगात्मक प्रयास के क्या मायने हो सकते हैं।’

एडमिरल ने सीनेटर एंगस किंग के सवाल का जवाब देते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा, ‘भारत को संकट के समय हमने कुछ सूचनाएं भी दी थीं। इनके अलावा कुछ उपकरण आदि भी दिए थे और पिछले कई वर्षों में, हम अपने समुद्री सहयोग को भी प्रगाढ़ कर रहे हैं।’

डेविडसन ने कहा कि मुझे लगता है कि चार देशों के गठबंधन (क्वाड) के साथ भारत अपने संबंध गहरा करेगा और मुझे लगता है कि यह हमारे, ऑस्ट्रेलिया और जापान के लिए एक महत्वपूर्ण रणनीतिक अवसर है। भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष नेताओं का सम्मेलन 12 मार्च को ऑनलाइन आयोजित होगा।