सेफ है Astrazeneca Covid-19 Vaccine, नहीं मिले खून का थक्का जमने से संबंध

Webvarta Desk: यूरोपीय यूनियन (European Union) की ड्रग एडमिसिस्ट्रेटिव संस्था यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (EMA) ने एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन (Astrazeneca Covid-19 Vaccine) को सुरक्षित बताया है।

एजेंसी (EMA) ने बताया कि उसकी शुरुआती जांच में वैक्सीन (Astrazeneca Covid-19 Vaccine) के प्रभाव से रक्त जमने के कोई संकेत नहीं मिले है। जिसके बाद माना जा रहा है कि यूरोप के 18 देश इस वैक्सीन पर लगाए गए अपने प्रतिबंधों को जल्द खत्म कर सकते हैं।

वैक्सीन और खून का थक्का जमने में संबंध नहीं

EMA के डॉयरेक्टर एमर कुक ने कहा कि हमारी जांच में एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन (Astrazeneca Covid-19 Vaccine) का खून के थक्के जमने से कोई संबंध नहीं मिला है। पहले दावा किया गया था कि इस वैक्सीन को लगवाने वाले लोगों के शरीर में खून के थक्के जम रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हम पूरी तरह से इस दावे को खारिज भी नहीं कर रहे हैं कि वैक्सीन और खून के जमने का कोई संबंध नहीं है। इस मामले की अब अतिरिक्त समीक्षा और लैब टेस्ट की जाएगी।

18 देशों ने लगाई है रोक

स्वीडन, जर्मनी और फ्रांस सहित दुनिया भर में कम से कम 18 देशों ने ईएमए की जांच होने तक एहतियात के तौर पर एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन के उपयोग को निलंबित कर दिया था। उन देशों में से कई ने कहा कि अगर ईएमए यह बताता है कि यह वैक्सीन सुरक्षित है तो निलंबन हटा दिया जाएगा। ईएमए ने कहा कि अस्पतालों में कोरोना वायरस से हो रही मौत को रोकने के लिए एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का लाभ इसके साइड इफेक्ट से ज्यादा है।

AstraZeneca की वैक्‍सीन को रोका तो नुकसान ज्‍यादा

भारत समेत दुनिया के कई देशों में धड़ल्‍ले से इस्‍तेमाल हो रही ऑक्‍सफर्ड-AstraZeneca की कोरोना वायरस वैक्‍सीन के इस्‍तेमाल को रोके जाने पर विशेषज्ञों ने गंभीर चेतावनी दी है। उन्‍होंने कहा कि वैक्‍सीन पर रोक से फायदा कम और नुकसान ज्‍यादा हो सकता है। यह चेतावनी ऐसे समय पर आई है जब जर्मनी, फ्रांस, इटली समेत दुनिया के कई देशों ने एस्ट्राजेनेका की वैक्‍सीन से कथित रूप से खून के थक्‍के जमने की आशंका के बाद इसके इस्‍तेमाल को रोक दिया है।

खून के थक्के जमने की रिपोर्ट को किया था खारिज

एस्ट्राजेनेका कंपनी ने रविवार को अपने एक बयान में कहा, ‘सुरक्षा सर्वोपरि है और कंपनी की ओर से अपने वैक्सीन की सुरक्षा पर लगातार निगरानी की जा रही है।’ इसमें आगे कहा गया, ‘यूरोपीय संघ और ब्रिटेन में टीकाकरण कराए गए 1.7 करोड़ से अधिक लोगों के सुरक्षा से संबंधित उपलब्ध सभी आंकड़ों की गहराई से समीक्षा की गई, जिसमें किसी भी आयु वर्ग और लिंग या किसी विशेष देश के निवासियों के फेफड़ों में खून का थक्का जमने, खून में प्लेटलेट्स की संख्या में कमी के होने के खतरे का कोई सबूत नहीं मिला है।’