अंतरिक्ष से बिस्‍तर पर गिरी ‘मौत’, मात्र कुछ इंच से बाल-बाल बची सो रही महिला

अंतरिक्ष से बिस्‍तर पर गिरी 'मौत', मात्र कुछ इंच से बाल-बाल बची सो रही महिला

ब्रिट‍िश कोलंबिया
कहते हैं कि जाको राखे साइयां मार सके न कोय। यह कहावत एक बार फिर से चरितार्थ हो गई है। कनाडा में एक महिला अपने बिस्‍तर पर सो रही थी और अचानक से अंतरिक्ष से एक उल्‍कापिंड उसके घर की छत पर आ गिरा। यह उल्‍कापिंड घर की छत में छेद करते हुए महिला के बिस्‍तर पर रखे तकिए पर आ ग‍िरा। यह उल्‍कापिंड महिला से मात्र कुछ ही इंच की दूरी पर गिरा।

खबरों के मुताबिक ब्रिटिश कोलंबिया में रहने वाली रूथ हैमिल्‍टन अपने मुंह के पास इतनी तेज आवाज और धुएं के होने पर अचानक से उठ गईं और डर गईं। बताया जा रहा है कि यह घटना 4 अक्‍टूबर के रात की है। हैमिल्‍टन ने व‍िक्‍टोरिया न्‍यूज से कहा, ‘मैं अचानक से उठ गई और लाइट जलाया। मैं यह समझ नहीं पा रही थी कि आखिर हुआ क्‍या है।’ इससे एक रात पहल ही लुइस झील के पास लोगों को उल्‍कापिंड गिरते दिखा था।

‘जब यह हुआ मैं हिल रही थी और डरी हुई थी’
इस खौफनाक घटना में हैमिल्‍टन बाल-बाल बच गईं। लाइट जलाने पर उन्‍होंने पाया कि उनके तकिए के ऊपर उल्‍कापिंड गिरा है। इसी तरफ वह अपना सिर करके सोती हैं। उन्‍होंने 911 पर फोन किया और यह पता लगाने की कोशिश की क‍ि कहीं यह पास ही चल रहे एक निर्माण स्‍थल से तो नहीं आया है। निर्माण स्‍थल के कर्मचारियों ने बताया कि उन्‍होंने कोई विस्‍फोट नहीं किया बल्कि उन्‍हें अंतरिक्ष से एक तेज रोशनी आती दिखी थी।

इसके बाद यह स्‍पष्‍ट हो गया कि हैमिल्‍टन के घर पर उल्‍कापिंड गिरा है। हैमिल्‍टन ने इस खौफनाक अनुभव पर कहा, ‘जब यह हुआ मैं हिल रही थी और डरी हुई थी। मुझे लगा जैसे कोई कूदकर आ गया हो या कोई बंदूक है या कुछ और। जब मुझे यह महसूस हुआ कि उल्‍कापिंड अंतरिक्ष से गिरा है तो मैंने फिर राहत की सांस ली। उन्‍होंने इस उल्‍कापिंड को संभालकर रख दिया है ताकि उन्‍हें नाती-पोते इसे देख सकें। उन्‍होंने कहा कि इस घटना ने उन्‍हें जीवन के प्रति एक नया नजरिया दिया है। मैं कहूंगी कि जीवन अनमोल है और यह कभी भी जा सकता है, फिर आप अपने घर में सुरक्षित तरीके से सो ही क्‍यों न रहे हों।