&TV SHow

एंड टीवी ने पेश किए ‘कहत हनुमान जय श्री राम’ और ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’

नई दिल्ली (शिवानी जलोटा)। बड़े परदे की ही तरह छोटे परदे की दुनिया भी नए साल में खूब मनोरंजक होने वाली है। जनवरी की शुरूआत एंड टीवी पर ‘कहत हनुमान जयश्री राम’ से सोमवार से हो चुकी हैं। सोमवार से शुरू हुए इस शो में श्री राम के परमभक्त महाबली हनुमान की कहानी को उनके बचपन के करिश्मों के साथ दिखाने की तैयारी है। इसी तरह, भक्त की जिंदगी में भगवान का निरंतर मार्गदर्शन और उनकी उपस्थिति, उसकी भक्तिमय यात्रा को सुगम बनाती है। संतोषी मां की कहानी ऐसी ही है, जिनकी मौजूदगी अपने उत्साही भक्त की जिंदगी में शांति और संतोष लेकर आती है। ‘भक्त और भगवान’ के बीच इस विशुद्ध सम्बंध को प्रकट करते हुए ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’, का प्रीमियर 21 जनवरी, 2020 को रात 9 बजे होगा।

 पेनिन्सुला पिक्चर्स द्वारा निर्मित ‘कहत हनुमान जय श्री राम’ की कहानी भगवान राम के प्रति हनुमान जी की भक्ति का वास्तविक सार और उद्देश्य प्रस्तुत करेगी, जिसमें उनकी शक्ति और भक्ति के कई अनबुझे पहलू होंगे। इस धारावाहिक में केसरी के रूप में जितेन लालवानी, अंजनी देवी के रूप में स्नेहा वाघ, हनुमान के रूप में एकाग्र द्विवेदी, बाली के रूप में निर्भय वाधवा, भगवान विष्णु के रूप में सुदीप साहिर, सुग्रीव के रूप में तुषार चावला, भगवान शिव के रूप में राम यशवर्धन आदि प्रमुख भूमिकाओं में नजर आएंगे। इसी असीम भक्ति का उत्सव मनाते हुए भाजपा सांसद और भोजपुरी अभिनेता मनोज तिवारी ने हनुमान चालीसा का पाठ अपनी मधुर आवाज में करने के साथ दिल्ली में इस शो के भव्य लांच में किया, जिसके बाद शो का टाइटल ट्रेक ‘कहत हनुमान जय श्री राम’ गाया।

 देवी और भक्त के बीच के विशुद्ध जुड़ाव का एक अन्य नया वर्णन प्रस्तुत करते हुए एंड टीवी लाया है ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं’, जिसके निर्माता हैं रश्मि शर्मा टेलीफिल्म्स। मां का मार्गदर्शन विभिन्न व्रतों, उनके पीछे की कथाओं, कारणों और आस्थाओं तथा व्रत रखने के सही तरीकों में मिलता है। यह शो सच्चे भक्त की जीत का संदेश कहानी कहने की कला के प्रारूप में देता है और इसमें बालीवुड की लोकप्रिय अभिनेत्री ग्रेसी सिंह ही संतोषी मां बनी हैं। इसमें तन्वी डोगरा मां संतोषी की अनन्य भक्त स्वाति की भूमिका में हैं, जो संतोषी मां के मार्गदर्शन में जीवन की विभिन्न कठिनाइयों से उभरती है और आषीष कादियान हैं, जो इंद्रेष की भूमिका निभा रहे हैं।

भक्ति की शक्ति और अपनी आस्था का प्रमाण बताते हुए मनोज तिवारी ने कहा, ‘‘आस्था ने ही मेरे जीवन का मार्गदर्शन किया है। मैं मानता हूं कि यदि कोई अलौकिक शक्ति आपका मार्गदर्शन करती है, तो आप जीवन में कुछ भी पा सकते हैं। और भक्ति ही आस्था का जरूरी अंग है। जब हम भक्ति की बात करते हैं, तो हनुमान जी के अलावा कोई दूसरा नाम दिमाग में नहीं आता है, जो भगवान राम के प्रति सर्वोच्च भक्ति का उदाहरण है। मैं हनुमान चालीसा और इस शो के टाइटल ट्रेक को गाकर यह कहानी प्रस्तुत करते हुए गर्वान्वित हूं, क्योंकि इसमें हनुमान जी की अमिट और निस्वार्थ भक्ति और समर्पण की प्रषंसा है। मुझे उम्मीद है कि यहां उपस्थित लोगों को यह गायन उतना ही अच्छा लगा होगा, जितना आनंद मुझे इसे गाने में आया है।’’

 दो नये शोज की प्रस्तुति के बारे में एंड टीवी के व्यवसाय प्रमुख विष्णु शंकर ने कहा, “कहते हैं कि भक्त है तो भगवान हैं। दरअसल सही मायने में तो भक्ति ही वो मार्ग है जो एक तरफ तो भक्त को उसके भगवान के पास ले जाती है, वहीं दूसरी ओर वही भक्ति भगवान को भी उनके प्रिय भक्त के पास लेकर आ ही जाती है। इसीलिए ये माना जाता है कि भक्ति के बिना ये स्रष्टि अधूरी सी है। इसी सच्चे और सरल भक्ति भाव को अपने दर्शकों तक पहुंचाने के लिए एंड टीवी लेकर आ रहा है दो नए शोज – ‘कहत हनुमान जय श्री राम‘ और ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं‘।

भक्त शिरोमणि हनुमान जहां अपने आराध्य श्रीराम का आशीर्वाद पाने के लिए वानर रूप में धरती पर जन्म लेते हैं और बुराई के प्रतीक रावण का विध्वंस करने के लिए प्रभु राम की सहायता करते हैं, वहीं संतोषी मां अपनी परम भक्त स्वाति को अलग-अलग व्रतकथाएं सुनाकर उसका मार्गदर्शन करती हैं, इससे उसे मजबूती मिलती है ताकि वो चुनौतियों का सामना कर अपने जीवन को और खुशहाल बना सके। वहीं जनता की मांग पर, हम ग्रेसी सिंह को संतोषी मां के रूप में लेकर आये हैं और उम्मीद है कि हमारे नए एवं पुराने दर्षक उन्हें देखने के लिए काफी उत्साहित हैं। इन दोनों शोज से, हमें आशा है कि हम अपने दर्षकों के दिलों में भक्ति की भावना को और मजबूत करेंगे।“

 कहत हनुमान जय श्री राम शो पर टिप्पणी करते हुए पेनिनसुला पिक्चर्स के निर्माताओं आलिंद श्रीवास्तव और निसार परवेज ने कहा, ‘‘पौराणिक कथा शैली जनसांख्यिकी से नहीं बंधी है। हमारे शो परमावतार श्री कृष्ण को दर्षकों ने खूब सराहा। कहत हनुमान जय श्री राम के माध्यम से हम हनुमान जी की बाल्यावस्था से लेकर वे कहानियां प्रस्तुत करेंगे, जो पहले कभी नहीं बताई गईं। हम सभी उनकी कथाओं को सुनकर बड़े हुए हैं और हमारा शो उनके बचपन और अपने परिवार के साथ उनके सम्बंध पर प्रकाष डालेगा। यह शो हनुमान जी के जीवन के विभिन्न पहलू प्रकट करेगा और बताएगा कि उन्हें भगवान श्री राम का परम भक्त क्यो कहा जाता है।’’

बाल हनुमान के किरदार से टेलीविजन पर डेब्यू कर रहे एकाग्र द्विवेदी ने कहा, ‘‘मुझे हमेशा से हनुमान जी की कहानियों ने आकर्षित किया है। बाल हनुमान का किरदार निभाने का अवसर मिलने से मैं रोमांचित हूं और सोच रहा हूं कि मेरे दोस्त और परिवार मुझे पर्दे पर अपने चहेते भगवान की भूमिका में देखकर क्या प्रतिक्रिया देंगे। हनुमान जी मेरे लिये सुपरहीरो हैं और मैं भी एक दिन उनके जैसी भक्ति करना चाहता हूं।’’ मां अंजनी की भूमिका निभा रही अभिनेत्री स्नेहा वाघ ने इस बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘‘पौराणिक किरदार निभाना चुनौतीपूर्ण और रोमांचक होता है। अंजनी का किरदार मेरे द्वारा अब तक निभाए गये किरदारों से अलग है और मुझे एक अभिनेत्री के तौर पर व्यापकता देता है। देश की राजधानी में हमारे शो के लाॅन्च होने से मैं खुष हूं, क्योंकि दिल्ली रामलीला के लिये भी प्रसिद्ध है। अंजनी के रूप में मुझे एक बार फिर एक शक्तिशाली किरदार मिला है, और वह है सबसे महान भक्तों में से एक हनुमान जी की मां का किरदार।’’

अंधविश्वास ने एक बार फिर डिगाई आस्था

केसरी की भूमिका निभा रहे जितेन लालवानी ने कहा, ‘‘केसरी एक बहादुर वानर थे, जिन्होंने बहुत शक्तिशाली होने के बावजूद हर स्थिति में शांति और संयम का परिचय दिया। ऐसा किरदार निभाने के लिये आपका दिमाग भी शांत और स्थिर होना चाहिये, ताकि आप उस किरदार के साथ न्याय कर सकें। मैंने कई पौराणिक किरदार किये हैं, और ऐसी हर भूमिका अनूठी और चुनौतीपूर्ण होती है। ऐसी भूमिकाओं के साथ प्रयोग करने से अभिनय कौषल को निखारने और बहुमुखी बनने का अवसर मिलता है।’’

संतोषी मां सुनाये व्रत कथाएं पर टिप्पणी करते हुए रष्मि शर्मा टेलीफिल्म्स की रश्मि शर्मा ने कहा, ‘‘कहानी कहने की कला एक मानवीय गुण है; ऐसा गुण, जिसकी सांस्कृतिक और भाषाई सीमा नहीं है। पौराणिक कथाओं के प्रति दर्षकों ने हमेशा रूचि दिखाई है और उन्हें पसंद भी किया है। ‘संतोषी मां सुनाये व्रत कथाएं’ के जरिये हम दर्षकों को व्रतों के पीछे की प्रमाणिक कथाएं, उनके गहरे अर्थ बताना चाहते थे और आज के जीवन में उनकी प्रासंगिकता दिखाना चाहते थे।’’

टेलीविजन पर वापसी कर रहीं और संतोषी मां की भूमिका को दोबारा निभा रहीं अभिनेत्री ग्रेसी सिंह ने कहा, ‘‘संतोषी मां से मुझे बहुत लगाव है और उनके किरदार से भी। यह किरदार मेरे दिल में खास जगह रखता है। इस शो में, मैं अपनी भक्त स्वाति के लिये एक मजबूत मार्गदर्षक हूं और विभिन्न व्रत कथाओं के माध्यम से उसे अपने जीवन की कठिनाइयों के समाधान पाने में सहायता करती हूं। यह एक भक्त की अपने भगवान के प्रति अमिट भक्ति की कहानी है और इसमें दिखाया गया है कि भक्ति से वह कैसे चुनौतियों को दूर करती है और विजयी होती है।’’

संतोषी मां की उत्साही भक्त स्वाति की भूमिका के बारे में अभिनेत्री तन्वी डोगरा ने कहा, ‘‘मैं मानती हूं कि हम सभी में एक स्वाति है। भगवान में हम सभी की आस्था है, लेकिन कठिनाई के समय में हमें एक मार्गदर्षक चाहिये होता है, जो हमें सही मार्ग दिखा सके। स्वाति का किरदार एक साधारण भक्त वाला है, जो दर्षकों से आसानी से जुड़ जाएगा। यह सोषियो-माइथोलाजी शैली में मेरा डेब्यू है। मैं खुद मां संतोषी की भक्त हूं और उनके मार्ग पर विष्वास करती हूं, इसलिये मैं इस शो से तुरंत जुड़ गई और मां की षिक्षाओं से भी मेरा जुड़ाव बन गया है। मुझे लगता है कि इस शो के माध्यम से दर्षक सही कथाओं, हर व्रत के पीछे के अर्थ को समझेंगे और अपनी विभिन्न समस्याओं के समाधान पाएंगे।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *