Sushant Singh Rajput case: गृह मंत्री अमित शाह ने CBI जांच के लिए मंत्रालय को भेजी चिट्ठी

New Delhi: सुशांत सिंह राजपूत की आत्मह’त्या (Sushant Singh Rajput Case) की जांच मुंबई पुलिस कर रही है। हालांकि उनके कई फैन्स इस मामले की CBI जांच चाहते हैं।

14 जुलाई को सुशांत (Sushant Singh Rajput Case) की मौ’त को 1 महीना पूरा होने पर पूर्व सांसद पप्पू यादव ने इस बारे में एक ट्वीट किया है। इसमें लिखा है कि उन्होंने सुशांत के मामले में CBI जांच के लिए गृहमंत्री अमित शाह को लिखा था। अमित शाह ने इस लेटर को कार्रवाई के लिए आगे बढ़ा दिया है।

पप्पू यादव का ट्वीट

पप्पू यादव ने ट्वीट में लिखा है, अमित शाह जी आप चाहें तो एक मिनट में सुशांत मामले की CBI जांच हो सकती है। इसे टालें नहीं! बिहार के गौरव फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत जी की संदिग्ध मृत्यु की CBI जांच के लिए केंद्रीय गृह मंत्री जी को पत्र लिख आग्रह किया था। उन्होंने कार्रवाई के लिए पत्र अग्रसारित कर दिया है।

पप्पू यादव ने ट्वीट के साथ अमित शाह के लेटर की कॉपी भी लगाई है। इसमें उन्होंने जवाब दिया है कि उनके लेटर को संबंधित विभाग को भेज दिया गया है। सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को आत्महत्या की थी। इस मामले में मुंबई पुलिस जांच कर रही है। पुलिस सुशांत से जुड़े कई लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है।

सुब्रमण्यम स्वामी ने उठाई आवाज़

उधर भाजपा से राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी इस मामले की जांच के लिए एक वकील नियुक्त किया है। सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट कर कहा था, ‘मैंने इशकरण को सुशांत सिंह राजपूत के कथित आत्महत्या मामले में संभावित सीबीआई जांच या पीआईएल या आपराधिक शिकायत के लिए प्रॉसेस शुरू करने के लिए कहा है।’

इस बाबत सुब्रमण्यम स्वामी के वकील इशकरण ने मुंबई पुलिस को पत्र लिखकर कहा है कि सुशांत के सभी इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्यों जैसे सीसीटीवी, लैपटॉप, फोन आदि को फॉरेंसिक जांच के लिए संरक्षित किया जाए ताकि सुशांत सिंह राजपूत को न्याय मिल सके।

गौरतलब है कि पिछले महीने (जून) की 14 तारीख को ही सुशांत सिंह राजपूत ने अपने घर में फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी। उस दिन से अब तक पुलिस लगभग तीन दर्जन लोगों से पूछताछ कर चुकी है। सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी बताती है कि उनकी मौत फांसी लगने के बाद सांस लेने में तकलीफ से हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *