Sushant Case: ड्र’ग्स में फंसीं रिया चक्रवर्ती को 14 द‍िनों की जेल, NCB के लॉकअप में कटी रात

New Delhi: सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में ड्र’ग ऐंगल सामने आने के बाद मंगलवार को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को अ’रेस्‍ट कर NCB दफ्तर से उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने रिया को 14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया।

रिया (Rhea Chakraborty) के वकील सतीश मानश‍िंदे ने रिया के लिए जमानत की अर्जी दी थी, ज‍िसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है। मंगलवार की रात रिया को NCB के दफ्तर में बने लॉकअप में ही रखा गया, क्‍योंकि जेल मैनुअल के मुताबिक सूर्यास्‍त के बाद जेल में किसी कै’दी की एंट्री नहीं होती।

समीर वानखेड़े ने मीडिया से कहा- सुबह रिया को भेजेंगे जेल

NCB मुंबई के जोनल हेड समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) रिया को जेल होने के बाद मीडिया से बात की। उन्‍होंने सिर्फ दो लाइन में जवाब दिया कि कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) को 22 सितंबर तक न्‍यायिक हिरासत में भेजा है। कोर्ट के आदेश के मुताबिक, मंगलवार की रात रिया चक्रवर्ती को एनीसबी दफ्तर में ही रखा जा रहा है। बुधवार की सुबह उन्‍हें जे’ल भेज दिया जाएगा।

न्‍यायिक प्रक्रिया के तहत पहले रिया की ज्‍यूडिश‍ियल कस्‍टडी पर कोर्ट ने फैसला सुनाया। इसमें रिया को 14 दिनों तक न्‍यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया गया। जबकि रिया के वकील सतीश मानश‍िंदे की ओर से दाखिल जमानत की याचिका पर बाद में सुनवाई हुई। बाद में कोर्ट ने जमानत की याचिका खारिज कर दी।

कोर्ट के सामने NCB ने रिया (Rhea Chakraborty) की जमानत का विरोध किया। मंगलवार की रात अब रिया को जेल भी नहीं भेजा गया क्‍योंकि सूर्यास्‍त के बाद कैदियों की गिनती और उन्‍हें बैरक में भेजे जाने के बाद जेल में एंट्री बंद हो जाती है। ऐसे में रिया को एनसीबी दफ्तर में ही रातभर रुकना पड़ा जहां से सुबह उन्‍हें जेल भेजा जाएगा।

क्‍यों नहीं मिली जमानत, अब आगे क्‍या करेंगे रिया के वकील

रिया (Rhea Chakraborty) की जमानत अर्जी खारिज होने के बाद अब रिया के वकील सतीश मानश‍िंदे बुधवार को सेशंस कोर्ट में अपील कर सकते हैं। यदि वहां से भी बेल नहीं मिलती तो हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में अपील किया जा सकता है।

रिया (Rhea Chakraborty) के मामले में सबसे बड़ा पेच धारा 27 (A) में फंसा। इस धारा में 10 साल कैद की सजा है। रिया के ख‍िलाफ यह धारा लगाई गई है। 27 (A) में अवैध ड्रग ट्रैफिकिंग में पैसे के लेन-देन का का मामला आता है। इसमें अपराधियों को दंडित करने के लिए 10 साल तक सजा का प्रावधान है। अब जिस धारा में 10 साल या उससे अध‍िक सजा का प्रावधान है, ऐसे मामलों में आम तौर पर कोर्ट बेल नहीं देती है।

कोर्ट के सामने दी गईं ये दलीलें

एनसीबी ने जमानत का विरोध करते हुए कहा कि रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) मामले में आरोपी है। वह यदि जमानत पर र‍िहा होती हैं तो मामले को प्रभावित कर सकती हैं। रिया ने कई अहम बातें बताई हैं जिन पर जांच जरूरी है। दूसरी ओर, सतीश मानश‍िंदे ने जमानत के लिए दलील में कहा कि एनसीबी के अध‍िकारी खुद कह रहे हैं कि मेरे मुवक्‍किल ने जांच में सहयोग किया है।

एनसीबी ने रिमांड नहीं मांगी है क्‍योंकि वह पूछताछ पूरी कर चुकी है। रिया ने खुद ड्र’ग्‍स नहीं ली, सिर्फ किसी के कहने पर ड्र’ग्‍स मुहैया करवाई, ऐसे में उन्‍हें जमानत दी जाए। जब भी जरूरत होगी, वह दोबारा जांच में सहयोग करेंगी।

रिया के समर्थन में बॉलीवुड सितारे

रिया ने कल काले रंग की टी-शर्ट पहनकर एनसीबी दफ्तर गईं थीं। उनके टी-शर्ट पर कुछ लाइनें लिखी थीं, ‘गुलाब लाल होते हैं, वॉयलेट्स नीले होते हैं, आओ हम और तुम मिलकर पितृसत्ता को ध्वस्त करें।’ इन्हीं लाइनों को अनुराग कश्यप, दिया मिर्जा, विद्या बालान, सोनम कपूर जैसे सितारों ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया है।

एनसीबी ने रिया को बताया ड्र’ग सिंडिकेट का ऐक्‍ट‍िव मेंबर

बता दें, एनसीबी ने रिमांड कॉपी में रिया को ड्र’ग सिंडिकेट का ऐक्‍ट‍िव मेंबर बताया है। इसके मुताबिक, रिया ने ड्र’ग लेने की बात नहीं कबूली है। वह सुशांत सिंह राजपूत के लिए ड्र’ग्‍स मुहैया करवा रही थीं और पेडलर के संपर्क में थीं। सुशांत के कहने पर पेडलर्स को पैसे रिया ने दिए थे।

रिया के जरिए सुशांत तक पहुंचता था ड्र’ग

रिमांड कॉपी में कहा गया है कि शौविक के जरिए रिया तक ड्र’ग्‍स आते थे। ड्र’ग पेडलर सुशांत के स्‍टाफ सैमुअल मिरांडा और दीपेश सावंत को ड्र’ग सौंपते थे जो बाद में रिया के जरिए सुशांत तक पहुंचते थे। रिया के जरिए ड्र’ग पेडलर को पेमेंट करवाया जाता था जिसके लिए पैसे सुशांत देते थे।

कॉपी में यह भी कहा गया है कि रिया ने जांच में सहयोग किया है। शौविक, सैमुअल, दीपेश के पास से कोई ड्र’ग्‍स नहीं मिले हैं। शौविक चक्रवर्ती द्वारा अब्‍दुल बासित परिहार और जैद विलात्रा के जरिए ड्र’ग फैसिलिटेट किया जाता था। सैमुअल मिरांडा और दीपेश सावंत इस ड्र’ग को पेडलर्स से लेते थे। रिया और सुशांत इसके लिए पेमेंट देखते थे।

रिया देखती थीं पैसों का लेन-देन

रिमांड कॉपी में एनसीबी ने लिखा है कि शौविक या रिया ने ड्र’ग्‍स सीधे तौर पर नहीं खरीदे। दोनों ड्र’ग्‍स मुहैया करवाने जरूर भागीदार थे। रिमांड कॉपी में एनसीबी ने लिखा है कि ड्र’ग्‍स के लिए पैसों के लेन-देन में रिया और सुशांत की भागीदारी थी। वह शौविक, सैमुअल और दीपेश को ड्र’ग्‍स लेने के लिए निर्देश देती थीं। पैसों का लेन-देन देखती थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *