‘रिया चक्रवर्ती बंगाली ब्राह्मण महिला’.. बंगाल में प’स्त कांग्रेस ने खोजा चुनावी ऐंगल

New Delhi: पश्चिम बंगाल (West Bengal) में राजनीतिक दलों ने बंगाली उपराष्ट्रवाद का आह्वान करते हुए कहा कि अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के खि’लाफ अभियान ने इस बात को साबित कर दिया है कि बीजेपी बंगालियों को आसान निशा’ना बनाती है। अगले साल होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Election 2020) से पहले बंगाली उप-राष्ट्रवाद का मुद्दा भी धीरे-धीरे उभर रहा है।

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) और विपक्षी कांग्रेस (Congress) तथा मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने अपने ती’खे राजनीतिक म’तभे’दों के बावजूद इस मामले में एक स्वर में BJP की निं’दा की। इन दलों ने आ’रोप लगाया कि बीजेपी ने साल के अंत में प्रस्तावित बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election) के मद्देनजर एक बंगाली महिला को ‘आसान निशा’ना’ बनाकर फायदा उठाने की कोशिश की है।

BJP नेतृत्व ने हालांकि इस आ’रोप पर कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया। तृणमूल कांग्रेस (TMC) के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता सौगत राय ने कहा, ‘मुझे लगता है कि क्योंकि रिया (Rhea Chakraborty) एक बंगाली है, अदालत में दो’षी साबित होने से पहले ही वह शो’षित है। दु’ष्प्र’चार अभियान एक बार फिर से बंगालियों के प्रति बीजेपी की घृ’णा साबित करता है। हमने असम एनआरसी में भी कुछ ऐसा ही देखा था।’

लोकसभा में कांग्रेस के नेता और पश्चिम बंगाल कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhry) ने मा’दक पदार्थों के आ’रोपों में रिया (Rhea Chakraborty) की गिर’फ्तारी को बेतुका बताया था। उन्होंने कहा था, ‘रिया के पिता सेना के एक अधिकारी रह चुके हैं और उन्होंने देश की सेवा की है। रिया एक बंगाली ब्राह्मण महिला भी हैं, सुशांत को न्याय की व्याख्या, बिहारी के लिए न्याय की व्याख्या नहीं होनी चाहिए।’

उन्होंने कई ट्वीट कर कहा था, ‘रिया (Rhea Chakraborty) के पिता को भी अपने बेटी के लिए न्याय मांगने का हक मिलना चाहिए। किसी भी मामले का मीडिया ट्रायल हमारी न्यायिक व्यवस्था के लिए शुभ नहीं है। सभी को न्याय मिले यही हमारे संविधान का मूल सिद्धांत है।’ जब इस संबंध में बीजेपी से संपर्क किया गया तो पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने इस मामले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करने से इनकार कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *