बॉलीवुड में कौन था सुशांत सिंह राजपूत का दुश्मन? BJP सांसद बोले- हो न्यायिक जांच

New Delhi: लाइट, कैमरा..ऐक्शन…और फिर कैमरे के सामने अभिनय। बाद में इसी अभिनय को ही रुपहले पर्दे पर देख हम तालियां बजाते हैं। लेकिन अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की खुदकुशी ने मायानगरी की इस इंडस्ट्री की सड़ांध को बाहर लाकर रख दिया है। यहां के अजीब और बनावटी रिश्तों की सिलवटें उघड़कर सामने आ रही है।

कैमरे के सामने एक-दूसरे से गर्मजोशी से गले मिलने वाले लोगों के बीच खेमेबंदी। मुस्कुराते चेहरे के पीछे छिपी कुटिलता। सुशांत की मौत ने सबको उजागर कर दिया है। खेमेबाजी ऐसी की अगर चेहरा पसंद नहीं तो फिल्म से बाहर।

ऐसे में इस इंडस्ट्री में जिसका गॉडफादर नहीं तमाम टैलेंट होने के बाद भी वह दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर होता है। सुशांत (Sushant Singh Rajput) की मौत की महाराष्ट्र पुलिस दुश्मनी की ऐंगल से भी जांच कर रही है। इस बीच, झारखंड के गोड्डा लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे (BJP MP Nishikant Dubey) ने न्‍यायिक जांच कराने की मांग उठाई है।

दुबे ने पूर्वांचल के कलाकारों से ‘संघर्ष का बिगुल’ फूंकने की अपील करते हुए कहा कि ‘फिल्‍म इंडस्ट्री में जारी माफियागिरी के सिंडिकेट को खत्‍म करना’ चाहिए। मुंबई पुलिस के मुताबिक, पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट में फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या की बात पता चली है। महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री ने भी पुलिस को प्रोफेशनल रायवलरी के चलते डिप्रेशन के ऐंगल पर भी जांच करने के निर्देश दिए हैं।

‘बॉलीवुड में होता है यहां के बच्‍चों का शोषण’

दुबे ने एक वीडियो जारी कर जांच की डिमांड रखी है। वो कहते हैं, “मैं काफी हिला सा हूं। मन उद्वेलित है। विचार कर रहा हूं कि किस तरह से पूर्वांचल, बिहार, झारखंड, मध्‍य प्रदेश, छत्‍तीसगढ़ के लोग जिनकी वजह से ये पूरी इंडस्‍ट्री चलती है, उसके कोई बच्‍चे मुंबई का रुख करते हैं तो उनके किस तरह हतोत्‍साहित किया जाता है। प्रताड़‍ित किया जाता है। वे आत्‍महत्‍या करने या भीख मांगने के लिए मजबूर हो जाते हैं।”

‘FIR दर्ज कर चले प्रोड्यूसर्स पर केस’

बीजेपी सांसद ने आरोप लगाया कि ‘मुंबई में एक बड़ा सिंडिकेट चल रहा है। वहां भाई-भतीजावाद हावी है। जो कलाकार यदि जाना चाहते हैं जो उसको कोई माफियागिरी में, कोई दलाली में इस तरह से प्रताड़‍ित करने की कोशिश की जाती है कि वे आत्‍महत्‍या को मजबूर हो जाते हैं। मेरा पूर्वांचल के कलाकारों से अनुरोध है कि आप सरकार पर दबाव डालिए।’

उन्‍होंने महाराष्‍ट्र पुलिस से अपील की कि ‘जिन प्रोड्यूसर्स ने सुशांत सिंह राजपूत को बायकॉट किया था या उन्‍हें फिल्‍म से निकाला था, उन सबों के ऊपर एफआइर्आर करके आत्‍महत्‍या के लिए प्रेरित करने का केस चलाना चाहिए।’

डिप्रेशन के दावों की चल रही जांच

महाराष्‍ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के मुताबिक, सुशांत की पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट में फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या की बात है। उन्‍होंने मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से कहा कि प्रोफेशनल रायवलरी के चलते सुशांत के डिप्रेशन में होने की बात सामने आई है। देशमुख के मुताबिक, मुंबई पुलिस इस ऐंगल पर भी जांच करेगी। सुशांत के यह कदम उठाने के बाद सोशल मीडिया पर एक बड़ी संख्‍या ऐसे यूजर्स की है जो बॉलिवुड में गुटबाजी को इसके पीछे बता रहे हैं।

कौन कर रहा गुटबाजी, पता लगाएगी पुलिस

मुंबई की बांद्रा पुलिस जल्‍द ही सुशांत के नौकर, मैनेजर और डॉक्‍टर से पूछताछ करेगी। यह पता लगाने की कोशिश की जाएगी कि सुशांत किस बात से इतने तनाव में थे। बॉलिवुड में उनके बायकॉट या परेशान किए जाने के जो आरोप लग रहे हैं, उनकी भी जांच होगी। सच जानने के लिए जिनके नाम उछले हैं, पुलिस उनसे भी पूछताछ कर सकती है।

घर में मिला था सुशांत का शव

34 साल के सुशांत रविवार को बांद्रा में अपने अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे। उनके घर के नौकर ने पुलिस को सूचना दी थी। वह 2016 में रिलीज हुई ‘एमएस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी’ में क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी का रोल निभाकर छा गए थे। 2013 में रिलीज हुई ‘काई पो चे’ से उनका फिल्‍मी कॅरियर शुरू हुआ था। सुशांत की मैनेजर ने भी कुछ दिन पहले आत्‍महत्‍या कर ली थी। राजपूत मूल रूप से बिहार के रहने वाले थे। उन्होंने मुंबई शिफ्ट होने से पहले पटना और नई दिल्ली में पढ़ाई की थी। वह फिल्‍मों से पहले टीवी इंडस्‍ट्री में भी सक्रिय रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *