सुशांत केसः CBI जांच से जोश में बिहार के DGP, बोले- रिया चक्रवर्ती की औकात नहीं

New Delhi: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मामले की जांच CBI ही करेगी। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने यह फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश को बिहार पुलिस (Bihar Police) की एक जीत के रूप में देखा जा रहा है।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला आने के बाद बिहार के डीजीपी (Bihar DGP) गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं। ये अन्याय के विरुद्ध न्याय की जीत है। यह 130 करोड़ लोगों की भावनाओं की जीत है। इस फैसले से सुप्रीम कोर्ट के लिए और भी सम्मान बढ़ेगा। अब लोगों को उम्मीद जगी है कि सुशांत सिंह राजपूत केस में निश्चित रूप से न्याय होगा।

पांडेय ने कहा कि हम लोगों पर आरोप लगाए जा रहे थे कि आपने क्यों केस किया। हमें अनुसंधान करने नहीं दिया जा रहा था। हमने अपने आईपीएस अफसर को भेजा तो उसे कैदी की तरह रात 12 बजे क्वारंटीन कर दिया गया। उसी से लग रहा था कि कुछ ना कुछ गड़बड़ है। हमने जो भी काम किया वह कानूनी और संवैधानिक रूप से सही किया। सुप्रीम कोर्ट ने इसपर मुहर लगा दी है। मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे धीरज के साथ इंतजार करें।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र पुलिस का व्यवहार पूरी तरह से अनैतिक था। इस केस में नतीजा जरूर आएगा, क्योंकि यह गुप्तेश्वर पांडेय या किसी एक परिवार की लडाई नहीं है, यह पूरे 130 करोड लोगों की लड़ाई है।

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के मुहर के बाद पूरे देश को पता चला कि बिहार पुलिस कुछ गलत नहीं कर रही थी। कुछ लोगों को बेचैनी ओर छटपटाहट थी कि कहीं उनकी पोल ना खुल जाए, इसलिए उन्होंने इसे प्रभावित करने की कोशिश की। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कॉमेंट करने की औकात रिया चक्रवर्ती की नहीं है।

पत्रकारों के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं रिपीट करता हूं कि रिया चक्रवर्ती की हैसियत नहीं है कि वह सीएम नीतीश कुमार पर कॉमेंट करे। बिहार के सीएम ने जो सपोर्ट किया उसी के चलते सुशांत केस की जांच सीबीआई तक पहुंची है।

सुप्रीम कोर्ट का महाराष्ट्र पुलिस के लिए तल्ख टिप्पणी

सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने बताया सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पटना के राजीव नगर थाने में दर्ज मुकदमा सही है। कोर्ट ने ये भी कहा कि महाराष्ट्र पुलिस की जांच लिमिटेड दायरे में था। साथ ही यह भी कहा कि बिहार सरकार की ओर से इस केस की जांच सीबीआई को देना सही फैसला है। आखिर में कोर्ट ने कहा कि हम भी कह रहे हैं कि सुशांत सिंह राजपूत के मौत मामले की जांच सीबीआई से ही होनी चाहिए। साथ ही कोर्ट ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत से जुड़ा कोई और भी मामला दर्ज होता है तो उसकी जांच सीबीआई ही करेगी।

मालूम हो कि इस मामले में महाराष्ट्र पुलिस पर लापरवाही के आरोप लगे थे, जिसके बाद सुशांत के पिता की शिकायत पर पटना के राजीव नगर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। बिहार पुलिस की टीम जब मुंबई जांच के लिए पहुंची तो महाराष्ट्र पुलिस ने कोई भी मदद नहीं की। साथ ही बिहार पुलिस की टीम को लीड करने वाले आईपीएस ऑफिसर को जबरन क्वारंटीन कर दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि महाराष्ट्र पुलिस इस केस की छानबीन करने में सक्षम नहीं रही इसलिए इसकी जांच सीबीआई से करानी पड़ रही है। इस मामले में सुनवाई के दौरान कहा गया कि महाराष्ट्र पुलिस ने इतने बड़े मामले में एक मुकदमा तक दर्ज नहीं किया। कोर्ट में जब इसपर सवाल पूछे गए तो महाराष्ट्र पुलिस का पक्ष रख रहे वकील ने इसे राजनीतिक रंग देने की कोशिश की। उनका कहना था कि इस केस में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जैसी शख्सियत शामिल हैं, जिसका वे बिहार विधानसभा चुनाव में लाभ लेना चाहते हैं।

इसपर बचाव पक्ष के वकील ने कहा कि यह मामला असल में यह है कि एक अभिनेता का शव उसे फ्लैट में मिलता है। इस मामले की महाराष्ट्र पुलिस की ओर से कोई जांच नहीं की जाती है। जब बिहार पुलिस की टीम इसकी छानबीन करने जाती है तो उसे ऐसा करने से रोका जाता है। इस दलील को महाराष्ट्र पुलिस और रिया चक्रवर्ती के वकील काउंटर नहीं कर पाए।

न्याय की जगी उम्मीद: चिराग पासवान

लोकजन शक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि मैं इस फैसले के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद करता हूं। माननीय कोर्ट ने करोड़ों लोगों की भावनाओं का सम्मान किया है। अब उम्मीद करते हैं कि इस केस की सच्चाई सामने आएगी। उन लोगों के नाम भी सामने आएंगे जिन्होंने इसक केस को भटकाने की कोशिश की। उम्मीद करता हूं कि परिवार को भी इस फैसले से सूकून मिला होगा, सच्चाई जल्द से जल्द सामने आएगी।

सुप्रीम कोर्ट में हमारी जीत हुई: संजय झा

बिहार सरकार में मंत्री संजय झा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने माना कि बिहार सरकार और बिहार पुलिस सही राह पर थी। यह लोगों की भावनाओं की जीत है। उम्मीद करते हैं कि इस केस में जल्द ही सच्चाई सामने आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *