कंगना रनौत, मनोज तिवारी और रवि किशन को AAP ने भेजा मानहानि का नोटिस, जानें क्या है माजरा

Webvarta Desk: AAP: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ दिल्ली के बॉर्डर पर आंदोलन (Farmers Protest) कर रहे किसानों के लिए अपमानजनक बयान देने के लिए आम आदमी पार्टी ‘आप’ ने बॉलिवुड ऐक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) समेत कई बीजेपी नेताओं को मानहानि का नोटिस भेजा है। आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने शनिवार को कहा है कि पार्टी ने दुर्भावनापूर्ण बयानबाजी के लिए नोटिस भेजने में किसानों की मदद की है।

राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने कई ट्वीट्स करते हुए बताया है कि कंगना, मनोज तिवारी और रवि किशन सहित कई अन्य लोगों को यह नोटिस भेजे गए हैं। उन्होंने ट्वीट में लिखा कि बेबेजी (बुजुर्ग) महिला के लिए आपत्तिजनक और अपमानजनक बयान देने के लिए कंगना को नोटिस भेजा गया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘कंगना रनौत के साथ ही हमने बीजेपी एमपी रमेश विधूड़ी, रवि किशन, मनोज तिवारी और मंत्री रावसाहेब पाटिल दानवे को नोटिस भेजने में किसानों की मदद की है।’

एक अन्य ट्वीट्स में राघव (Raghav Chadha) ने डीटेल्स शेयर करते हुए बताया, ‘आप की कानूनी मदद से इन पीड़ित किसानों ने मानहानि के नोटिस भेजे हैं। जीवन ज्योत कौर ने कंगना रनौत, नरिंदर सिंह ने रमेश विधूड़ी, सुखविंदर सुखी ने मनोज तिवारी, गुरिंदर बिरिंग ने रवि किशान और चेतन सिंह ने रावसाहेब दानवे को नोटिस भेजे हैं।’

चड्ढा ने लिखा, ‘मानहानि के नोटिस के मुताबिक, आरोपियों ने दिल्ली के बॉर्डरों पर चल रहे किसानों के आंदोलन के खिलाफ एक शातिर और दुर्भावनापूर्ण अभियान चलाया ताकि किसानों की ईमानदारी और उनकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाई जा सके।’

बता दें कि कंगना रनौत ने किसान आंदोलन में शामिल होने वाली बुजुर्ग महिला को शाहीन बाग में आंदोलन करने वाली बिलकिस बानो समझ लिया था और एक ट्वीट को फॉरवर्ड करते हुए कहा था कि बिलकिस बानो जैसे लोग 100-100 रुपये में आंदोलन में शामिल होने के लिए उपलब्ध होते हैं।

कंगना का यह ट्वीट फर्जी था जिसे बाद में उन्होंने डिलीट कर दिया था। हालांकि उनके इस बयान के बाद दिलजीत दोसांझ, तापसी पन्नू, सोनू सूद, विशाल डडलानी, वीर दास, मीका सिंह और स्वरा भास्कर जैसी बहुत सी सिलेब्रिटीज ने तीखी आलोचना की थी।