‘प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना से 16.61 लाख लोगों को मिला रोजगार’

New Delhi: केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता राज्यमंत्री आरके सिंह ने राज्यसभा को बताया कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत 16.61 लाख लोगों को सफलतापूर्वक रोजगार मुहैया कराया गया है। राज्यमंत्री आरके सिंह ने शुक्रवार को राज्यसभा में कहा कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत 16.61 लाख लोगों को प्रशिक्षण दिया गया था। उन्होंने बताया कि वर्ष 2016-20 के बीच करीब 73.47 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराया गया है।

उन्होंने बताया कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत युवाओं को 371 कोर्स कराए गए हैं। आइटीआइ के 15,697 औद्योगिक प्रशिक्षण केंद्रों से 137 कारोबारियों को लंबी अवधि का प्रशिक्षण दिया गया। इस बीच, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने लोकसभा में बताया कि देश भर में कम से कम डेढ़ लाख उप स्वास्थ्य और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को अब आयुष्मान भारत योजना के तहत स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्रों में बदला जाएगा।

केंद्रीय मंत्री ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि इन स्वास्थ्य केंद्रों की गुणवत्ता सुधारने का काम दिसंबर, 2022 तक पूरा हो जाएगा। आयुष्मान भारत के तहत काम करने वाले फिलहाल 29,414 केंद्र हैं। इन स्वास्थ्य केंद्रों को विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया गया है। जैसे- उप स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र। इन सब में दिल्ली, लक्ष्यद्वीप और लद्दाख में इनमें से किसी भी श्रेणी का स्वास्थ्य केंद्र नहीं है।

उल्‍लेखनीय है कि रोजगार उपलब्‍ध कराने के मसले पर सरकार विपक्ष के लगातार निशाने पर है। राहुल गांधी ने गुरुवार को लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान के बाद आरोप लगाया कि उन्‍होंने सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी के बारे में कोई बात नहीं की। संसद के बाहर संवाददाताओं से बातचीत में राहुल ने कहा कि आज देश के सामने सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार और अर्थव्यवस्था का है। देश का हर युवा चाहता है कि पढ़ाई के बाद उसे रोजगार मिले। हमने प्रधानमंत्री से कई बार कहा कि आप देश के युवाओं को रोजगार के बारे में बताइए लेकिन वह जवाब नहीं दे पाए। उन्‍होंने आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री रोजगार के बारे में एक शब्द नहीं बोल सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *