Onion Price Hike: स्टॉक लिमिट के विरोध में ट्रेडर्स.. नहीं कर रहे खरीदारी, और बढ़ सकता है रेट

New Delhi: एकबार फिर से प्याज (Onion Price Hike) का रेट आसमान छू रहा है। यह 100 रुपये किलो (Onion price touched 100 rupees) तक पहुंच चुका है। जमाखोरी रोकने को लेकर सरकार ने पिछले दिनों स्टॉक लिमिट की घोषणा की थी।

इस नियम का ट्रेडर्स विरोध कर रहे हैं। स्टॉक लिमिट रूल्स (Onion stock limit rules for traders) के विरोध में सोमवार को होलसेल ट्रेडर्स ने नासिक मंडी में प्याज की खरीदारी नहीं की। उनका कहना है कि इसके कारण आयातकों को तो फायदा हुआ है, लेकिन हमारा नुकसान हुआ है। ये ट्रेडर्स स्टॉक लिमिट की जगह टाइम लिमिट की मांग कर रहे हैं।

होलसेल ट्रेडर्स के लिए लिमिट 25 मीट्रिक टन

किसान ट्रैक्टर में भरकर APMC (Agricultural Produce Market Committees) जिसे मंडी कहते हैं, वहां पहुंचते हैं। वहां ट्रेडर्स इनसे प्याज की खरीदारी करते हैं। पहले वे इसे स्टॉक करते हैं फिर पूरे देश में वहां से सप्लाई की जाती है।

नए नियम के तहत होलसेल ट्रेडर्स के लिए प्याज की स्टॉक लिमिट को 25 मीट्रिक टन और रीटेल ट्रेडर्स के लिए 2 मीट्रिक टन निर्धारित किया गया है। ऐसे में पूरे देश के ट्रेडर्स किसानों से प्याज की खरीदारी नहीं कर पा रहे हैं। उन्हें डर है कि ज्यादा खरीदारी करने पर नियम का उल्लंघन होगा और उन्हें कानूनी परेशानी होगी।

प्याज की खरीदारी और सप्लाई एक लंबी प्रक्रिया

नासिक डिस्ट्रिक्ट अनियन ट्रेडर्स असोसिएशन के चेयरमैन सोहनलाल भंडारी का कहना है कि यह प्रक्रिया इतनी आसान नहीं है। हम पहले किसानों से प्याज की खरीदारी करते हैं। फिर क्वॉलिटी के आधार पर प्याज की छंटनी होती है। फिर पैकिंग के बाद ट्रक पर लोड किया जाता है। उसके बाद पूरे देश में इसकी सप्लाई की जाती है। जब तक कोई दूसरा ट्रेडर प्याज के ट्रक की डिलिवरी नहीं ले लेता है, वह स्टॉक हमारे बुक्स में रहता है। इस पूरी प्रक्रिया में समय लगता है। ऐसे में हमारे लिए बिजनस करना मुश्किल है।

स्टॉक लिमिट की जगह टाइम लिमिट की मांग

भंडारी ने कहा कि इन्हीं परेशानियों के चलते हमने स्टॉक लिमिट की जगह टाइम लिमिट की मांग की है। टाइम लिमिट नियम में सरकार यह कर दे कि खरीदारी के इतने दिनों के भीतर उस स्टॉक को क्लियर करना है। यह नियम हमारे लिए ज्यादा उपयुक्त होगा। इससे हम आसानी से स्टॉक भी खाली कर पाएंगे और मांग भी पूरी कर पाएंगे। बता दें कि निर्यात पर बैन लगने के बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नासिक मंडी के ट्रेडर्स पर छापा मारा था। ट्रेडर्स इससे भी खफा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *