Mukesh Ambani news: कोयला संकट के बीच ग्रीन एनर्जी में मुकेश अंबानी का बड़ा दांव, 3 दिन में 4 विदेशी कंपनियां रिलायंस की झोली में

Mukesh Ambani news: कोयला संकट के बीच ग्रीन एनर्जी में मुकेश अंबानी का बड़ा दांव, 3 दिन में 4 विदेशी कंपनियां रिलायंस की झोली में

हाइलाइट्स

  • रिलायंस इंडस्ट्रीज ने ग्रीन एनर्जी सेक्टर में तेजी से कदम बढ़ाने शुरू किए
  • पिछले 3 दिन में कंपनी ने 4 विदेशी कंपनियों के साथ करार किया है
  • RNESL के जरिए जर्मन कंपनी NexWafe GmbH में निवेश किया है
  • रिलायंस ने साथ ही डेनमार्क की कंपनी Stiesdal के साथ करार किया है

नई दिल्ली
देश और दुनिया में बढ़ते कोयला संकट के बीच मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने ग्रीन एनर्जी सेक्टर में तेजी से कदम बढ़ाने शुरू कर दिए हैं। पिछले 3 दिन में कंपनी ने 4 विदेशी कंपनियों के साथ करार किया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपनी यूनिट रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड (RNESL) के जरिए जर्मनी की कंपनी NexWafe GmbH (NexWafe) में निवेश किया है और डेनमार्क की कंपनी Stiesdal के साथ एक करार किया है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बताया कि उसने सिरीज सी फाइनेंसिंग के जरिए NexWafe में 2.5 करोड़ यूरो का निवेश किया है। इस निवेश से रिलायंस इस कंपनी में स्ट्रैटजिक लीड इनवेस्टर बन गई है। यह जर्मन कंपनी मोनोक्रिस्टेलाइन सिलिकॉन वैफर्स का विकास और निर्माण करती है। इसे ग्रीन सोलर वैफर्स कहा जाता है जो किफायती होते हैं। इस सौदे की प्रक्रिया इस महीने के अंत तक पूरी होने की संभावना है।

Stock Market Prediction: आज IDFC First Bank और Bajaj Auto समेत इन शेयरों पर रखे नजर, आ सकता है तगड़ा उछाल

3 दिन में 4 डील
रिलायंस ने साथ ही बताया कि उसकी सहयोगी कंपनी RNESL ने डेनमार्क की कंपनी Stiesdal A/S के साथ एक डील साइन की है। इसका मकसद भारत में हाइड्रोजन इलेक्ट्रोलाइजर्स बनाना है। Stiesdal अभी इसे विकसित कर रही है। समझौते के मुताबिक वह इससे जुटी टेक्नोलॉजी का लाइसेंस RNESL को देगी। अंबानी ने अगले 3 साल में न्यू क्लीन एनर्जी बिजनस में 75,000 करोड़ रुपये निवेश का लक्ष्य रखा है। रिलायंस ने 2035 तक नेट कार्बन न्यूट्रल बनने का लक्ष्य रखा है।

Petrol Diesel Price: महाअष्टमी के दिन सीएनजी महंगा तो पेट्रोल डीजल में रही स्थिरता

इससे पहले रविवार को रिलायंस ने क्लीन एनर्जी सेक्टर की दो कंपनियों के अधिग्रहण की घोषणा की थी। कंपनी ने कहा कि उसने सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी REC Solar Holdings AS (REC Group) में 100 फीसदी हिस्सेदारी China National Bluestar (Group) Co से खरीद ली है। कंपनी ने साथ ही Sterling & Wilson Power में 40 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की भी घोषणा की थी। यह कंपनी सोलर पावर प्रोजेक्ट्स में इंजीनियरिंग, प्रॉक्योरमेंट और कंस्ट्रक्शन का काम करती है।