अब कार्ड से बिना पासवर्ड डाले कर पाएंगे ₹5000 तक पेमेंट, 1 जनवरी से लागू होगा नियम

New Delhi: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) कॉन्टैक्टलेस पेमेंट को प्रमोट करने के लिए एक बड़ा फैसला करने जा रहा है। RBI ने Contactless Payments की लिमिट 2000 रुपये से बढ़ाकर 5000 रुपये करने का प्रस्ताव रखा है। रिजर्व बैंक डिजिटल पेमेंट में तेजी लाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। नया नियम 1 जनवरी 2021 से लागू किया जाएगा।

रिजर्व बैंक (RBI) का कहना है कि कोरोना महामारी के समय में contactless payments बहुत अहम है। इससे पेमेंटे सुरक्षित भी रहता है। रिजर्व बैंक के इस प्रस्ताव का स्वागत किया गया है। संबंधित पक्षों का कहना है कि इससे डिजिटल ट्रांजैक्शन में तेजी आएगी साथ ही ग्राहकों को आसानी भी होगी।

Visa कार्ड के भारत और साउथ एशिया के ग्रुप कंट्री मैनेजर TR रामचंद्रन ने कहा कि कोरोना महामारी के आने के बाद लोग कैश की जगह डिजिटल पेमेंट को प्रेफर कर रहे हैं। रोजाना खरीदारी के लिए ग्राहक कॉन्टैक्टलेस पेमेंट को एक्सेप्ट कर रहे हैं। ऐसे में लिमिट बढ़ाने से इस प्रक्रिया में तेजी आएगी।

रिजर्व बैंक के इस फैसले को लेकर NPCI के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ दिलीप अस्बे का कहना है यह एक स्वागत योग्य फैसला है। इससे ऐवरेज ट्रांजैक्शन वैल्यू में भी उछाल आएगा और ज्यादा लोग डिजिटल पेमेंट को एक्सेप्ट करेंगे। इस तरह के फैसले से हम कैशलेस इकॉनमी की तरफ तेजी से आगे बढ़ेंगे।

क्या होता है कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन?

इस टेक्नॉलजी की मदद से कार्ड होल्डर को ट्रांजैक्शन के लिए स्वाइप करने की जरूरत नहीं होती है। पॉइंट ऑफ सेल (POS) मशीन से कार्ड को सटाने पर पेमेंट हो जाता है। एक दिन में पांच कॉन्टैक्टलेस ट्रांजैक्शन किए जा सकते हैं। वर्तमान में एक ट्रांजैक्शन की लिमिट 2000 रुपये है, जिसे बढ़ाकर 5000 किया जाना है। इसमें RFID (रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन) टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया जाता है।