भारत को कोरोना संकट से उबारने के लिए FB, Amazon, Apple, Google, Vivo ने बढ़ाया हाथ

amazon facebook vivo oppo

नई दिल्ली, 28 अप्रैल (वेबवार्ता)। भारत की कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ जारी लड़ाई में फेसबुक (FB), एप्पल (Apple), अमेजन (Amazon), ओप्पो (Oppo)और वीवो (Vivo) सहित तमाम उद्यम अपनी तरफ से आगे बढ़कर समर्थन दे रहे हैं। ये कंपनियां ऑक्सिजनेटर्स, सांस लेने की मशीनें और वेंटीलेटर्स जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराकर महामारी के खिलाफ देश को समर्थन दे रही हैं।

अमेजन इंडिया (Amazon India) ने मंगलवार को कहा कि उसने अपने वैश्विक संसाधनों के जरिए 100 वेंटीलेटर्स हासिल किए हैं। इनका देश में तुरंत आयात किया जा रहा है। इनका विमान के जरिए देश में आयात किया जा रहा है और अगले दो सप्ताह में भारत पहुंचने की उम्मीद है।

फेसबुक (FB) के प्रमुख मार्क जुकरबर्ग ने कहा कि कंपनी यूनिसेफ के साथ मिलकर काम कर रही है और आपात प्रतिक्रिया के तौर पर एक करोड़ डॉलर उपलब्ध करा रही है। उन्होंने कहा, ‘‘फेसबुक इस मामले में यूनिसेफ के साथ मिलकर काम कर रही है और लोगों को यह समझाने का प्रयास कर रही है कि उन्हें अस्पताल कब जाना चाहिए। आपात प्रतिक्रिया के तौर पर वह एक करोड़ डॉलर दे रही है।’’

गूगल (Google) ने मुहैया कराए 135 करोड़

एप्पल (Apple) के सीईओ टिम कुक और गूगल के भारतीय मूल के सीईओ सुंदर पिचाई ने भी कोरोना वायरस से राहत के प्रयासों में अपने अपने योगदान की बात कही है। पिचाई ने कहा कि कंपनी ने और उसके कर्मचारियों ने भारत, यूनिसेफ और अन्य संगठनों को उनके प्रयासों में सहयोग के लिए 135 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए है।

वीवो इंडिया (Vivo India) दे रही 2 करोड़

वीवो इंडिया (Vivo India) ने मंगलवार को कोविड-19 राहत कार्यों में मदद के लिए दो करोड़ रुपये का अनुदान देने की घोषणा की और ऑक्सिजन (Oxygen) संक्रेन्द्रण हासिल करने में मदद के लिए आगे आई है। वीवो इंडिया (Vivo India) ब्रांड रणनीतिकार निदेशक निपुन मारया ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘इस लड़ाई में हम सभी साथ हैं और हमें कोविड-19 को हराने के लिए मिलकर लड़ना होगा। इस कठिन समय में वीवो बीमारी से जूझ़ रहे समुदायों को समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध है।’’

ओप्पो (Oppo) ऐसे कर रही मदद

वहीं ओप्पो (Oppo) ने रेड क्रॉस सोसायटी और उत्तर प्रदेश सरकार को 1,000 ऑक्सीजरेटर्स और 500 सांस लेने वाली मशीनें अनुदान में देने का संकल्प जताया है। इसके साथ ही फ्रंटलाइन वर्कर्स को 5,000 यूनिट ओप्पो बैंड स्टायल देने की भी बात कही है। कंपनी ने कहा कि ये मशीनें उन अस्पतालों को उपलब्ध कराई जाएंगी, जहां इनकी सबसे अधिक जरूरत होगी।

कंपनी ने कहा कि वह दिल्ली पुलिस और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के फ्रंटलाइन कर्मियों को 1.5 करोड़ रुपये के ओपो बैंड स्टायल की 5,000 यूनिट उपलब्ध कराएगी। इससे वह अपने स्वास्थ्य की निगरानी कर सकेंगे, जिससे वह दूसरों की बेहतर सेवा कर सकें।