Wednesday , 29 January 2020
Lunar Eclipes 2020

Lunar Eclipse 2020 : भारत समेत यूरोप, आस्ट्रेलिया और अफ्रीका में दिखा चंद्र ग्रहण

New Delhi : साल 2020 (Lunar Eclipse 2020) का पहला चंद्रग्रहण आज पौष पूर्णिमा (10 जनवरी 2020 शुक्रवार) की रात को पड़ा। यह चंद्रग्रहण दुनिया के अन्‍य भागों के साथ भारत में भी दिखाई दिया। यह ग्रहण 10 जनवरी शुक्रवार रात 10 बजकर 36 मिनट से शुरू होकर 11 जनवरी के तड़के 02:44:04 बजे तक रहा। चंद्रग्रहण की अवधि 4 घंटे से ज्यादा की थी। यह भारत समेत यूरोप, आस्ट्रेलिया और अफ्रीका के कई हिस्सों में दिखाई दिया।

क्या होता है उप-छाया ग्रहण?

चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य जब एक सीध पर होते हैं और पृथ्वी की छाया चंद्रमा पर पड़ती है तो चंद्र ग्रहण माना जाता है। लेकिन इस बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया के बाहरी किनारे (पृथ्वी की उपछाया) से होकर गुजरेगा। यानी चंद्रमा पूरी तरह से पृथ्वी की छाया में छिपेगा नहीं। बल्कि हल्का मलिन होगा जिसकी मलिनता नंगी आंख से देख पाना मुश्किल है। इस प्रकार यह ग्रहण उप-छाया चंद्र ग्रहण होगा।

भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है रक्षाबंधन का पवित्र त्योहार

इस ग्रहण में नहीं लगेगा सूतक

बाकी  ग्रहण की तरह इस ग्रहण में सूतक नहीं लगेगा क्योंकि चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया पूरी तरह से नहीं पड़ेगी। आमतौर पर देखा जाता है कि चंद्र या सूर्य ग्रहण होने के बारह घंटे पहले सूतक काल लगता है। सूतक काल में शुभ काम करना मना होता लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा। ग्रहण काल को छोड़कर आप अपने बाकी के काम रोज की तरह ही कर सकते हैं। लेकिन ग्रहण काल में कुछ बातें ध्यान रखना जरूरी होगा।

कहां-कहां देखा गया चंद्रग्रहण

इस ग्रहण को एशिया, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, अफ्रीका में देखा गया, लेकिन नॉर्थ अमेरिका में इस ग्रहण को नहीं देखा जा सका, लेकिन अलास्का, इस्टर्न माइन और उत्तर पूर्वी कनाडा में इसे देखा जा सका।

वैज्ञानिकों के लिए खगोलीय घटना, शास्त्रों में अशुभ घटना

एक खगोलीय घटना होने के कारण वैज्ञानिकों के लिए ग्रहण विशेष महत्‍व रखता है। वैज्ञानिक इस दौरान कई गणनाएं करते हैं। चंद्रग्रहण को नंगी आंखों से भी देखा जा सकता है। इसमें परेशानी नहीं है। जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है, तब सूर्य ग्रहण होता है। इसी तरह जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी छाया में आ जाता है तो चंद्रग्रहण होता है। धार्मिक मान्‍यता के अनुसार चंद्रग्रहण को नंगी आंखों से देखना शुभ नहीं माना जाता है।

ग्रहण के समय क्‍या करें क्‍या ना करें

चंद्र ग्रहण के दौरान कई बातों का ख्‍याल रखना आवश्‍यक है। मान्यता है कि इस ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को घर के बाहर नहीं निकलना चाहिए। ग्रहण के दौरान कोई भी काम शुरु करने की मनाही होती है। इस दौरान खाना बनाने से भी बचना चाहिए। ग्रहण के दौरान नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव अधिक होता है, इसलिए हमेशा इस दौरान ईश्वर का ध्यान करना चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक इसका सूतक 12 घंटे पहले यानि दस जनवरी की सुबह 10.30 बजे से लग जाएगा। इस दौरान मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाएंगे।

2020 में लगेंगे कुल 4 चंद्र ग्रहण

इस साल 2020 में कुल 4 चंद्र ग्रहण लगने वाले हैं, जिसमें पहला चंद्र ग्रहण शुक्रवार को लगेगा। इसके अलावा इस वर्ष दो सूर्य ग्रहण लगेंगे।

  • पहला ग्रहण: 10-11 जनवरी, चंद्र ग्रहण
  • दूसरा ग्रहण: 5 जून, चंद्र ग्रहण
  • तीसरा ग्रहण: 21 जून, सूर्य ग्रहण
  • चौथा ग्रहण: 5 जुलाई, चंद्र ग्रहण
  • पांचवा ग्रहण: 30 नवंबर, चंद्र ग्रहण
  • छठा ग्रहण: 14 दिसंबर, सूर्य ग्रहण

ग्रणह के दौरान ध्यान रखें ये बातें-

  1.     ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए।
  2.     ग्रहण के दौरान शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए।
  3.     ग्रहण के दौरा भोजन नहीं करना चाहि।
  4.     ग्रहण के दौरान भगवान का ध्यान करना चाहिए या नाम का जाप करना चाहिए।
  5.     अगले दिन आराम से स्नान-दान कर सकते हैं। इस बार कुछ नियमों का पालन न कर पाएं तो चिंता की बात नहीं है।

चंद्र ग्रहण का राशियों पर असर

मेष राशि वालों के दोस्तों और भाई-बहनों से रिश्ते खराब हो सकते हैं। वहीं वृश राशि वाले परिवार में संभल कर चलें विवाद होने की संभावना है। मिथुन राशि के लोग अपनी सेहत का ध्यान रखें। कर्क राशि के लोगों का मन अशांत रहेगा। सिंह राशि के लोगों को धन लाभ हो सकता है। कन्या राशि के लोगों को नौकरी बदलनी पड़ सकती है। तुला राशि के लोग करियर में बदलाव ला सकते हैं। वृश्चिक राशि  के लोगों के हर कार्य में अड़चन आएगी। धुन राशि के पति-पत्नी के संबंधों में कड़वाहट आएगी। मकर राशि के लोग हारा हुआ महसूस करेंगे। कुंभ राशि के लोगों को पेट की तकलीफें हो सकती हैं। मीन राशि के लोग अपने माता-पिता की सेहत का ध्यान रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *