सोनिया और राहुल को पित्रोदा बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए : जावड़ेकर

नई दिल्ली, 10 मई (वेबवार्ता)। भाजपा ने 1984 के सिख विरोधी दंगों के बारे में कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की कथित टिप्पणियों को लेकर संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से देश से माफी मांगे जाने की शुक्रवार को मांग की। केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पित्रोदा ने दंगों के बारे में बहुत ही ‘‘गैर जिम्मेदार’’ बयान दिया है।

उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘कांग्रेस नेताओं सोनिया गांधी और राहुल गांधी को सैम पित्रोदा के उस गैर जिम्मेदार बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए जिसमें उन्होंने कहा था, ‘‘1984 में नरसंहार हुआ, तो क्या।’’ जावड़ेकर ने कहा कि राहुल गांधी के मार्गदर्शक और राजीव गांधी के साथी पित्रोदा ने ‘‘बहुत ही निंदनीय’’ बयान दिया है।

उन्होंने कहा, ‘‘1984 का नरसंहार, जहां तीन हजार सिख मारे गये …हुआ तो हुआ। हुआ तो क्या हुआ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आज, उन्होंने एक और खतरनाक बयान दिया है। वह कहते हैं कि मैं सिख समुदाय के दर्द को समझ सकता हूं, लेकिन यह आज प्रासंगिक नहीं है।’ जावड़ेकर ने कहा कि यह मुद्दा आज भी प्रासंगिक है क्योंकि यह अत्याचारों की एक अनसुलझी गाथा है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर सिखों और उनके नरसंहार के खिलाफ अत्याचार प्रासंगिक नहीं है, तो कल पित्रोदा कहेंगे कि देश का विभाजन भी प्रासंगिक नहीं है, कश्मीरी पंडितों का जातीय सफाया भी प्रासंगिक नहीं है।’’

केन्द्रीय मंत्री ने दावा किया, ‘‘वह कहेंगे कि शाह बानो मुद्दे पर राजीव गांधी द्वारा सांप्रदायिक राजनीति भी प्रासंगिक नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि यह प्रासंगिक है, क्योंकि देश ने इन मुद्दों का सामना किया है। जावड़ेकर ने कहा कि ये मुद्दे प्रासंगिक है लेकिन कांग्रेस अप्रासंगिक हो जाएगी। उन्होंने दावा किया, ‘‘आज, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी कहा है कि सिख नरसंहार के लिए, अर्जुन सिंह, एचकेएल भगत, ललित माकन और सज्जन कुमार और एक मंत्री जिम्मेदार थे।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *