महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को मतदान और 24 अक्टूबर को आएंगे नतीजे

नई दिल्ली, 21 सितंबर (वेबवार्ता)। महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव कराये जायेंगे और परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित किये जायेंगे। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुनील अरोड़ा ने शनिवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की। हरियाणा में 90 सीटों के लिए तथा महाराष्ट्र में 288 सीटों के लिए चुनाव कराये जायेंगे। चुनाव के लिए अधिसूचना 24 सितम्बर को जारी होगी। चुनाव की घोषणा के साथ ही दोनों राज्यों में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गयी।

 मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, ‘‘हरियाणा में 1.28 करोड़ वोटर हैं और 1.3 लाख ईवीएम का इस्तेमाल होगा। महाराष्ट्र 8.94 करोड़ वोटर हैं और 1.8 लाख ईवीएम का इस्तेमाल होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘महाराष्ट्र के लिए चुनाव आयोग ने दो विशेष पर्यवेक्षकों को भेजने का फैसला किया है, जो सिर्फ चुनावी खर्च पर नजर रखेंगे। पहले भी महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक में ऐसे पर्यवेक्षकों को चुनाव के दौरान भेजा जा चुका है।

आयोग ने राजनीतिक दलों से यह भी अपील की है कि वे पर्यावरण के लिए अनुकूल सामग्री का ही प्रचार में इस्तेमाल करें और प्लास्टिक के इस्तेमाल से बचें।’’ अरोड़ा ने बताया कि 21 अक्टूबर को ही अरुणाचल प्रदेश, बिहार, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, असम, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मेघालय, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना और केंद्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी में 64 सीटों पर उपचुनाव होगा। इसका नतीजा भी 24 अक्टूबर को आएगा।

 बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभी की कुल 288 सीटें हैं, जबकि हरियाणा में सीटों की संख्या 90 है। हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल दो नवम्बर को और महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल नौ नवम्बर को समाप्त हो रहा है। पिछले चुनाव में महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना गठबंधन की सरकार है, वहीं हरियाणा में बीजेपी ने बहुमत के साथ सरकार बनाई थी। इन दोनों राज्यों में बीजेपी को उम्मीद है कि वह एक बार फिर सत्ता में आएगी। वहीं, कांग्रेस भी अपनी जमीन दोबारा तलाशने की कोशिश करेगी। पीएम मोदी ने हरियाणा और महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए प्रचार अभियान की शुरुआत भी कर दी है। पीएम ने राज्य की जनता से अपील की है कि वह देश और समाज हित में एक बार फिर सत्ता में बीजेपी को ही लेकर आएं।

हरियाणा में 2 नवंबर, महाराष्ट्र में 9 नवंबर तक विधानसभा का कार्यकाल

महाराष्ट्र में मतदान की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 1.8 लाख ईवीएम का इस्तेमाल होगा, जबकि हरियाणा में 1.3 लाख ईवीएम का इस्तेमाल होगा। हरियाणा में 2 नवंबर को मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है, जबकि महाराष्ट्र में 9 नवंबर को कार्यकाल समाप्त होगा। फिलहाल दोनों ही राज्यों में बीजेपी सत्ता में है, ऐसे में उसके लिए दोनों राज्यों में अपनी सत्ता को बचाए रखने की चुनौती होगी। महाराष्ट्र में बीजेपी शिवसेना के साथ गठबंधन सरकार चला रही है, जबकि हरियाणा में वह बहुमत के साथ शासन में है।

28 लाख खर्च कर सकेंगे कैंडिडेट्स, प्लास्टिक से परहेज

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी न देने पर कैंडिडेट्स का पर्चा रद्द होगा। आयोग ने कैंडिडेट्स के लिए खर्च की सीमा 28 लाख रुपये निर्धारित की है। चुनावी खर्च की निगरानी के लिए पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की जाएगी। चुनाव में हिस्सा ले रहे उम्मीदवारों को अपने हथियार जमा कराने होंगे। इसके अलावा चुनाव आयोग ने प्रचार में पर्यावरण का ध्यान रखते हुए प्लास्टिक का इस्तेमाल न करने की अपील की है।

दोनों राज्यों में सत्ता के दावेदार

महाराष्ट्र : मौजूदा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे, कांग्रेस के अशोक चव्हाण और राकांपा प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजीत पवार।

हरियाणा : मौजूदा मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, कांग्रेस के भूपिंदर सिंह हुड्डा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *