C
New Delhi, IN
Sunday, January 21, 2018

साहित्य

दुर्गा (कहानी)

-विवेक मिश्र- झांसी में दशहरे की धूम, यूं तो हर साल ही होती थी, पर इस बार इसका इंतजार नौ साल के ज्ञान को सबसे...

पुस्तक समीक्षा: शब्द कुछ कहते हैं…

पुस्तक: शब्द कुछ कहते हैं... लेखक: अजय कुमार मिश्र अजयश्री प्रकाशक: अयन प्रकाशन कीमत: 200 रुपए समीक्षक: एमएम. चन्द्रा अजय कुमार मिश्र अजयश्री का काव्य संग्रह शब्द कुछ कहते...

चरित्र बेटी का (कहानी)

-अशोक बाबू माहौर- शकुंतला, उमा को परेशान किया करती, खाने-पीने पर बोल उठती, कभी पढ़ाई पर आंखें दिखाती। उमा नादान सी हिचकियां भरकर रह जाती।...

कहानी : साहस की जीत

-आरती रानी- अरावली के जंगलों के पास मत्स्य नामक एक राज्य था। वहां के राजा वीरभान अत्यंत साहसी एवं नेक इंसान थे। राजा वीरभान दिन-रात...

कहानी: अजीब दास्तां है ये…

-पंकज त्रिवेदी- उन दिनों में अचानक ही चक्कर आने शुरू हो गए थे। कुछ नहीं फिर भी बहुत कुछ लगता रहा। शुरुआत में लोग कहते कि...

कुरबानी (कहानी)

-राजेंद्र चंद्रकांत राय- वह बेरोज़गार था। एक मैकेनिक की दूकान पर जाया करता और दिन भर वहाँ खटने के बाद सिर्फ़ तीस रुपया मजदूरी बनती। तीस...

चंदरू की दुनिया (कहानी)

-कृष्न चंदर- कराची में भी उसका यही धंधा था और बांद्रे में भी यही। कराची में संधू हलवाई के घर की सीढियों के पीछे तंग-अंधेरी...

कहानी: वह मुझे अच्छी लगने लगी

कहानी: वह मुझे अच्छी लगने लगी 9/16/2017 1:19:59 PM प्रिय सुरेश, ये क्षेत्र छत्तीसगढ़ कहलाता है। छत्तीसगढ़ का मतलब बहुत से लोग कहते हैं कि इधर...

घुमक्कड़ शास्त्र के रचयिता सांकृत्यायन

घुमक्कड़ शास्त्र के रचयिता सांकृत्यायन 9/20/2017 10:57:19 PM हिंदी साहित्य की विलक्षण प्रतिभाशाली हस्तियों में से एक राहुल सांकृत्यायन ऐसे महापंडित थे जिन्होंने बिना विधिवत शिक्षा...

एक टोकरी-भर मिट्टी (कहानी)

एक टोकरी-भर मिट्टी (कहानी) 9/24/2017 3:10:12 PM किसी श्रीमान् जमींदार के महल के पास एक गरीब अनाथ विधवा की झोंपड़ी थी। जमींदार साहब को अपने महल...
Translate »