बेहतर रैंकिंग वाली ग्राम पंचायत को जाना जाएगा इंद्रधनुष ग्राम पंचायत से : डीसी

0
25

जींद, 13 फरवरी (वेबवार्ता)। उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि गांवों में अधिकाधिक सुविधाएं जुटाने एवं ग्राम पंचायतों के काम काज में सुधार करने के उदेश्य के दृष्टिगत राज्य सरकार द्वारा स्टार ग्राम पंचायत योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत ग्राम पंचायतों को ग्रेडिंग व रैंकिंग प्रदान की जाएगी। रैंकिंग प्रदान करने वाली ग्राम पंचायतों को इंद्रधनुष ग्राम पंचायत के नाम से जाना जाएगा।

वे मंगलवार लघसचिवालय में विकास एवं पंचायत विभाग तथा पंचायती राज विभाग के अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। डीसी ने बताया कि इस योजना के तहत प्रत्येक जिले की ग्राम पंचायत को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का एक व्यवस्थित ढंग से आंकलन किया जाएगा और उसके आधार पर मिलने वाली रैंकिंग के अनुसार ग्राम पंचायतों की पुरस्कृत कर प्रोत्साहित किया जाएगा। ग्राम पंचायतों का आंकलन करने के लिए सात मापदंड तैयार किए गए है।

ग्राम पंचायतों को इन सात श्रेणियों के आधार पर दी जाएगी स्टार रेटिंग: डीसी ने बताया कि ग्राम पंचायतों को उनके काम के अनुरूप स्टार रेटिंग प्रदान की जाएगी। सात बिंदुओं पर किए गए कार्यो के आधार पर ही ग्राम पंचायतों को स्टार रेटिंग दी जानी है। हर वर्ष प्रत्येक जिले से इस योजना के तहत 10-10 ग्राम पंचायतों का चुनाव किया जाएगा। उन्होंने बताया कि गांव में पुरूष/महिला लिंगानुपात, शिक्षा, सफाई/स्वच्छता, शांति और सदभाव, पर्यावरण संरक्षण, सुशासन और सामाजिक भागीदारी इन सात बिन्दुओं पर काम के आधार पर रेटिंग प्रदान की जाएगी।

योजना को सही तरीके से लागू करने के लिए हर जिले में होगी कमेटी गठित

उपायुक्त ने बताया कि इस योजना को सही तरीके से लागू करने के लिए प्रत्येक जिले में जिला उपायुक्तों की अध्यक्षता में 4 से 5 सदस्यों की कमेटी का गठन किया जाएगा। यह कमेटी ग्राम पंचायतों द्वारा प्रस्तुत किए गए प्रश्रावली का मूल्यांकन करेगी तथा उनका मूल्यांकन करने हेतू दूसरे जिले के जिला स्तरीय कमेटी को भेजेगी। क्योंकि कोई भी जिला स्तरीय समिति अपने जिले के विवरण का आंकलन नहीं करेगी। जिला स्तरीय समिति को सत्यापन के लिए जिलों का आबंटन राज्य स्तरीय समिति द्वारा किया जाएगा। प्रश्रावली का मूल्यांकन जिला स्तरीय समिति द्वारा तथा उसके पश्चात राज्य स्तरीय समिति द्वारा किया जाएगा।

सात बिंदुओं पर हुए काम के लिए दिए जाएगें अलग-अलग अंक

डीसी अमित खत्री ने बताया कि जो सात बिंदु निर्धारित किए गए है, उनपर हुए काम के आधार पर ग्राम पंचायतों को अंक प्रदान किए जाएगें। लिंगानुपात पर हुए काम पर गुलाबी स्टार, शिक्षा के क्षेत्र में हुए काम पर आसमानी नीला स्टार, स्वच्छता पर हुए काम पर सफेद स्टार, पर्यावरण संरक्षण पर हुए कार्य पर हरा स्टार, सामाजिक सौहार्द को लेकर किए गए कार्यो के लिए नारंगी स्टार, सुशासन तथा सहभागीता को लेकर किए गए कार्य पर भी स्टार दिए जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here