दो वर्ष से वेतन न दिए जाने के खिलाफ, आधुनिक मदरसा शिक्षक करेगें अनशन

0
74

लखनऊ, 20 मार्च (घुमक्कड़ बिजनौरी)। उत्तर प्रदेश में मदरसों को अत्यधिक आधुनिक और सुविधाजनक बनाने का दावा करने वाली योगी सरकार अपनी कथनी और करनी के अन्तर को नहीं पाट पा रही है यही कारण है कि मुख्यमंत्री स्वयं और उनके अनेक मंत्री जहां एक ओर बयानों में मदरसों की भलाई के बयान दे रहे हैं वहीं दूसरी ओर वास्तविकता यह है कि एक एक मदरसे की तीन तीन बार जांच पडताल कराने के पश्चात भी दो वर्ष से इनके शिक्षकों को वेतन यानि उनका मानदेय नहीं दिया गया है और इसमें दुखद यह है कि योगी सरकार के कर्मचारी और अधिकारी अनेक बहाने बनाकर दबी जुबान में यह स्वीकार कर रहे हैं कि मदरसों के मामलों में सरकार यानि मुख्यमंत्री और उनके मंत्रियों की नियत ठीक नहीं है। इसलिए दर्जनों बहाने बनाकर उनको परेशान किया जा रहा है और हर तरह से इनका शोषण किया जा रहा है हर जिले पर लगातार धरने और प्रर्दशन किए जा रहे हैं लखनऊ में लगातार धरना किया गया मगर आश्वासन और सिर्फ आश्वासन ही मिले बेचारे शिक्षक दो साल से अपने मामूली मानदेय से भी वंचित हैं उनके बच्चे भूखे मर रहे हैं उनके परिवार दयनीय स्थिति से गुजर रहे हैं इससे सरकार को कोइ्र्र मतलब नहीं है बस वह बयान दे रहे हैं कि वे मदरसों का भला चाहते हैं ज्ञात रहे कि उत्तर प्रदेश के 9000 मदरसों के 25000 शिक्षक बिना अपने वेतन मानदेय के कैसे जीवन यापन कर रहे हैं इससे योगी सरकार को कोई मतलब नहीं है केन्द्र सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय के अधिकारियों और योगी के अधिकारी दोनो सरकारों की नीति का पालन बताते हुए मदरसों और उनके आधुनिक शिक्षकों को परेशान किए हुए हैं और बहानों में उलझाएं हुए हैं कभी यू डाइस कोड,कभी अपडेशन,कभी कुछ कभी कुछ, आदि आदि बहानों से पूरे दो साल निकल गये और मदरसों के टीचर्स को उनका वेतन नहीं मिला है।

आधुनिक मदरसा शिक्षकों को अलग अलग लाट संख्या में बांट कर उनकी नियमावली तक न होना उनसे परीक्षा की डयूटी ले लेना और कोई भी पैसा उनको न देना यह सरकारों का शिक्षकों के साथ रवैया है योगी सरकार लाख कहे कि वह मदरसों और उसके शिक्षको की हितैशी है मगर वास्तव में उनका पूरा शोषण हो रहा है वह और उसका पूरा परिवार भूखों मरने की नौबत में आ गया और अब वह अनशन और परिवार सहित भूख हडताल करने की बात सार्वजनिक रूप से कह चुके हैं राष्ट्रीय अध्यक्ष नफीस पाशा सहित प्रदेश की महिला अध्यक्षा जमशीदा खातून सहित सभी पदाधिकारियों ने सार्वजनिक रूप से शिक्षकों की दशा को बयान करते हुए अपनी मांगें रखी हैं मुरादाबाद कमिश्नरी पर प्रर्दशन किया गया बिजनौर जिले के आरिज अहमद,कमरूददीन अंसारी और स्योहारा के तनवीर ने मदरसा शिक्षकों के वेतन यानि मानदेय को तुरन्त दिए जाने की मांग करते हुए अनशन करने की चेतावनी दी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here