सीलिंग के बहाने एफडीआई का रास्ता साफ कर रही है भाजपा : सिसोदिया

0
31

नई दिल्ली, 13 मार्च (वेबवार्ता)। राजधानी दिल्ली में जारी एमसीडी के सीलिंग से गुस्साए लाखों व्यापारियों ने मंगलवार को अपनी दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठानों को बंद रखा और जगह-जगह धरना-प्रदर्शन किए। इसको लेकर आज दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में सीलिंग को लेकर न केवल लाखों व्यापारी दुखी हैं, बल्कि उनके साथ जुड़े और भी लोग प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे ये आंच अनाधिकृत कॉलोनी में भी जाएगी, इससे सभी डरे हुए हैं।

सिसोदिया ने कहा कि बिना मार्केट के दिल्ली की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। इस मसले का हल निकालने के लिए सीएम ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है ताकि सभी मिलकर साथ आएं और इसका उचित और शीघ्र समाधान निकाले। लेकिन भाजपा ने बैठक में न आकर एक चिट्ठी भेजकर राजनीति की है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे का हल तलाशने के लिए हम जहां तक जरूरत पड़ेगी वहां तक जाएंगे। बीजेपी को फिर से बुलाएंगे, आज कांग्रेस के नेता आए थे। उन्होंने सहमति जताई है कि व्यापारी परेशान हैं इसके लिए संसद में आवाज उठाने की हामी भरी है। उन्होंने बताया कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के सांसद मॉनिटरिंग कमेटी से मुलाकात करेंगे। सीएम ने भाजपा और कांग्रेस से व्यापारियों के पक्ष में एक साथ आने का अनुरोध किया है।

सिसोदिया ने कहा कि 351 सड़कों पर बात हुई है जो भी जरूरी तैयारी है वो की जाएगी। 351 सड़के सीलिंग से अभी बाहर हैं। बीजेपी सीलिंग पर राजनीति न करे बल्कि समाधान के लिए सहयोग करे। वो चाहे तो एक दिन में कानून लाकर मदद मिल सकती है। सीएम की सर्वदलीय बैठक में बीजेपी के न आने से यह साफ हो गया कि वह नहीं चाहती कि सीलिंग का हल निकले। ये सब सीलिंग के बहाने एफडीआई के रास्ते साफ करने का प्रयास है।

वहीं गोपाल राय ने कहा कि पिछली बार जब बीजेपी के नेता आए थे तो इस बात पर एतराज था कि मीडिया के सामने क्यों मीटिंग कर रहे हो। आज की मीटिंग मीडिया के बिना हुई, यानी साफ है कि बीजेपी का अप्रत्यक्ष समर्थन सीलिंग को प्राप्त है। कल एलजी के सामने जो केंद्र का बयान आया वो भी जताता है कि सीलिंग को सरकार का समर्थन मिला हुआ है। दिल्ली विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है उसे लेकर प्रस्ताव पास किया जाएगा।

ज्ञात हो कि सीलिंग के विरोध में आज दिल्ली के बाजारों में कहीं व्यापारी धरने पर बैठे हैं, कहीं सीलिंग की शवयात्रा निकाल रहे हैं तो कहीं मुंडन कराकर अपना विरोध जता रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ इस मुद्दे को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच जुबानी जंग छिड़ी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here