राडिया टेप: मानहानि के मुकदमे में निचली अदालत के सुनवाई करने का रास्ता साफ

0
64

नई दिल्ली, 07 जनवरी (वेबवार्ता)। दिल्ली उच्च न्यायालय ने निचली अदालत को कथित 2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले के सिलसिले में पूर्व लॉबिस्ट नीरा राडिया के साथ नेताओं, कॉरपोरेट अधिकारियों एवं पत्रकारों की विवादित बातचीत को प्रकाशित करने के लिए एक मीडिया हाउस के खिलाफ एक पत्रकार द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे पर सुनवाई करने का रास्ता साफ कर दिया।

 

निचली अदालत में सुनवाई को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया था क्योंकि सीबीआई की विशेष अदालत कथित 2जी घोटाले से जुड़े मामलों की सुनवाई कर रही थी। सीबीआई अदालत ने 21 दिसंबर, 2017 को सभी आरोपियों को बरी कर दिया था। उच्च न्यायालय ने निर्देश दिया कि मानहानि मामले को संबंधित मजिस्ट्रेट के समक्ष तीन फरवरी को सूचीबद्ध किया जाए। न्यायालय ने साथ ही कहा कि मामले की सुनवाई तीन साल से अधिक समय तक स्थगित रही, इसलिए इसकी त्वरित सुनवाई हो और एक साल के भीतर सुनवाई पूरी हो।

 

मामले के लंबित रहने के दौरान विवादित बातचीत के टेप उच्चतम न्यायालय के पास थे और मीडिया हाउस ने कहा कि मूल टेप को पेश किये बगैर वह मानहानि के इस मामले में अपना बचाव नहीं कर सकेगी। मजिस्ट्रेट अदालत ने जून 2014 में सुनवाई को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया था। पत्रकार, राडिया के साथ जिनकी बातचीत को समाचार पत्रिकाओं ने भी प्रकाशित किया था, ने मामले की सुनवाई अनिश्चितकाल के लिये स्थगित किये जाने को चुनौती दी थी। 2 जी मामलों में निचली अदालत द्वारा 21 दिसंबर को दिये गये फैसले का संज्ञान लेते हुए न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा ने कहा कि परिस्थितियां बदल गई हैं और अब पत्रकार वीर सांघवी द्वारा दायर याचिका पर दोबारा सुनवाई शुरू किये जाने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here