‘थिएटर ओलम्पिक’ का आयोजन 17 फरवरी से

0
28

नई दिल्ली, 13 फरवरी (वेबवार्ता)। आजादी के बाद देश में रंगमंच का पहला सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय महोत्सव ‘थिएटर ओलम्पिक ’17 फरवरी से 51 दिन तक देश के 17 शहरों में आयोजित किया जाएगा। इसमें 30 देशों के 25 हज़ार कलाकार भाग लेंगे। संस्कृति मंत्रालय और राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय द्वारा आयोजित इस आठवें ओलम्पिक का उद्घाटन लाल किले से उपराष्ट्रपति एम़ वेंकैया नायडू करेंगे और इसका समापन आठ अप्रैल को मुम्बई के गेटवे ऑफ़ इंडिया में होगा। इस ओलम्पिक के दौरान 45 भाषाओं में 450 देशी-विदेशी नाटक होंगे और 600 खुले में प्रदर्शन तथा 250 यूथ फोरम शो भी होंगे।

इसके अलावा रंगमंच के बारे में दो अंतरराष्ट्रीय सेमिनार और छह राष्ट्रीय सेमिनार भी होंगे। इस आयोजन पर 51 करोड़ रुपये से अधिक खर्च होंगे। इस ओलम्पिक का थीम मित्रता का ध्वज रखा गया है। यह जानकारी आज यहाँ संस्कृति मंत्री डॉ महेश शर्मा, संस्कृति मंत्रालय की अपर सचिव सुजाता प्रसाद तथा राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के निदेशक वामन केंद्रे एवं कार्यवाहक अध्यक्ष अर्जुन देव चरण ने एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में दी।

उन्होंने बताया कि इस ओलम्पिक में दिल्ली के अलावा मुम्बई, जम्मू, भोपाल, वाराणसी, पटना, कोलकाता,जयपुर चंडीगढ़, बेंगलुरु, अहमदाबाद, भुवनेश्वर, चेन्नई, तिरुअनंतपुरम, गुवाहाटी, इम्फाल और अगरतला में नाटकों के शो होंगे। इस ओलम्पिक में ब्रिटन, फ़्रांस, जर्मनी, यूनान, डेनमार्क, इटली, जापान, चीन, रूस के अलावा पोलैंड, आस्ट्रेलिया, बेल्जियम और नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका जैसे पड़ोसी देश भी भाग लेंगे, लेकिन पाकिस्तान भाग नहीं लेगा, क्योंकि उसके किसी नाटक का गुणवत्ता की दृष्टि से चयन नहीं किया गया। इस आयोजन में शबाना आज़मी, परेश रावेल, मनोज जोशी, हिमानी शिवपुरी, सीमा विश्वास, सौरभ शुक्ल जैसे रंगमंच तथा फिल्म उद्योग से जुड़े कलाकार भाग लेंगे।

ओलम्पिक में मुम्बई और दिल्ली में दो अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी तथा भोपाल, बेंगलुरु, चंडीगढ़, जयपुर, कोलकाता तथा वाराणसी में राष्ट्रीय संगोष्ठियाँ भी होंगी। ओलम्पिक में 50 कालजयी कलाकारों एवं 50 मास्टर कलाकारों की भी एक कार्यक्रम श्रृंखला आयोजित होगी। इस पूरे आयोजन में रतन थियम, अलीक पद्मसी, माया राव, एम के रैना, राज बिसारिया, त्रिपुरारी शर्मा, बंसी कॉल और सौमित्र चटर्जी जैसे कलाकार भाग लेंगे। ओलम्पिक में नुक्कड़ नाटक, लघु नाटक लेखन, मुसिक बंद के अलावा एक लघु नाटक प्रतियोगिता का भी आयोजन होगा, जिसमें पहला पुरस्कार एक लाख रुपये का होगा, जबकि दूसरा पचास हज़ार का और तीसरा पच्चीस हज़ार रूपए का होगा। थिएटर ओलम्पिक की शुरुआत यूनान के डेल्फी शहर से 1993 में हुई थी और यह अब तक जापान,रूस, तुर्की, कोरिया चीन और पोलैंड में हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here