क्षय रोग एवं अवसाद से बचाव जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन

0
37

नई दिल्ली, 13 फरवरी (वेबवार्ता)। सांगली मैस नगर पालिका सह शिक्षा उच्च माध्यमिक विद्यालय एवं प्रतिष्ठा युवा संगठन द्वारा संयुक्त रूप से क्षय रोग (टी.बी.) एवं अवसाद से बचाव के बारे में बच्चो एवं युवाओं तक सही जानकारी उपलब्ध कराने के उद्देश्य से क्षय रोग एवं अवसाद से बचाव जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें 14 से 16 वर्ष के बच्चो व युवाओं ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रधानाचार्य दिनेश कुमार तंवर द्वारा की गई। उन्होंने क्षय रोग एवं अवसाद से बचाव कार्यक्रम स्कूल में करवाने एवं क्षय रोग की जानकारी उपलब्ध कराने आए दिल्ली टीबी एसोसियेशन के हरिओम शर्मा, अखिलेश यादव एवं प्रतिष्ठा युवा संगठन के संरक्षक एवं समाज सेवी मोहित कुमार का परिचय करवा कर स्वागत किया।

इस मौके पर दिनेश तंवर ने बताया कि आज जैसे-जैसे बीमारियां फैल रही हैं, स्कूलो में बच्चो की उपस्थिति कम होती जा रही हैं। परीक्षा के दिनों में बच्चे ज्यादा अपनी सेहत का ध्यान रखें इसलिए स्कूलों में स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम चलाने पर जोर दिया जा रहा है। वहीं मोहित कुमार ने बताया की लोगों में क्षय रोग (टी.बी.) को लेकर कई गलत धारणाऐ बनी हुई है, जिसें दूर करना ही हमारा उद्देश्य है। साथ ही परीक्षा के समय पर होने वाले अवसाद से बचाव के लिए हम समय-समय पर ऐसे कई जागरूकता कार्यक्रमो का आयोजन करते रहते है। जिससे अधिक से अधिक आम लोगो एवं युवाओं को जागरूक किया जा सके। उन्होंने बताया कि क्षय रोग (टी. बी.) हवा से फैलने वाली बीमारी है इसलिए हमे इस पर ज्यादा ध्यान देने की जरुरत है क्योकि हम बाहर के लोगों के संपर्क में ज्यादा आते है जिसमे से अगर एक को भी यह बीमारी है तो वह कई लोगों को इस बीमारी से ग्रस्त कर सकता है।

हरिओम ने बताया कि इसके लक्षण है दो सप्ताह से अधिक की खाँसी जो साधारण उपचार से ठीक ना हो, हल्का बुखार रहता हो, भूख कम लगती हो, वजन घट रहा हो या बलगम अथवा बलगम के साथ खून आता हो तो पास के डॅाट सेंटर पर जा कर जाँच अवश्य करवा लें, जिससे समय रहते इस बीमारी का पता कर इसे फैलने से रोका जा सकता है। इसकी जाँच व पूरा ईलाज दिल्ली के लगभग 735 डॅाट सेन्टरों पर मुफ्त दिया जाता है, तथा 203 माइक्रोस्कोपी सेंटर है। इसके बचाव के लिए रोगी खॅासते, छीकते समय मॅुह व नाक को रूमाल से ढके, रोगी यहाँ वहा ना थूके, रोगी को धूम्रपान, मदिरा व नशीली वस्तुओं का प्रयोग नहीं करना चाहिए व रोगी को क्षय रोग (टी.बी.) का पूरा ईलाज करवाना चाहिए।

अंत में दिनेश तंवर ने दोनों संस्थाओं को धन्यवाद देते हुए कहा कि हम प्रयास करेंगे की अन्य स्कूलों व कक्षाओ में क्षय रोग के बचाव व ईलाज के हर माह कार्यक्रम चलाये जाये जिससे बच्चो व युवाओ के माध्यम से उनके परिवार के लोगों को भी जागरूक किया जा सके। सहयोग संगीता अरोड़ा इंचार्ज, कक्षा 9 की शिक्षिका अजय शर्मा, निधि बबर, शिखा शर्मा, गौतमजीत का रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here