ओबीसी जनगणना के आंकड़े शीघ्र जारी किया जाए : जयदत्त

0
58

नई दिल्ली, 28 मई (सतीश चौधरी)। राजनीतिक प्रतिनिधित्व की मांग को लेकर तेली समाज तेली एकता रैली करने जा रही है इस रैली में देश के बाहर के सांसद व विधायक भी भाग लेने आ रहे हैं। दिल्ली में तेली समाज की यह पहली रैली है। अखिल भारतीय तैलिक साहु महासभा का दिल्ली में दो जून को रैली करने जा रही है। इस खास रैली में देश भर के सांसद, विधायक व नेतागण शिरकत कर रहे हैं। इसी कड़ी में नेपाल के दो सांसद सर्व प्रमोद साह व दिल कुमारी साह और विधायकगण भरत प्रसाद साह, दिलीप कुमार साह, गौरी नारायण साह, नीरा कुमारी साह अखिल भारतीय तैलिक साहु महासभा की रैली में भाग लेंगे। इसकी जानकारी अखिल भारतीय तैलिक साहु महासभा के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री एवं विधायक महाराष्ट्र जयदत्त क्षीरसागर ने दी। उन्होंने कहा कि अभी तक सामाजिक व राजनैतिक रूप से काफी उपेक्षित रहा है। क्षीरसागर ने कहा कि आज के संदर्भ में ओबीसी जनगणना के आधार पर आंकड़े को जारी करने की जरूरत है।

देश में तेली समाज की जनसं या 14 करोड़ है लेकिन आज भी समाज को समुचित प्रतिनिधित्व नहीं प्राप्त है। समाज को पूरा हक मिले और जनसं या के अनुसार सत्ता में भागीदारी प्राप्त हो। आज के संदर्भ में हमारे समाज को कम करके आंका जाता है, तेली एकता रैली के माध्यम से हम अपनी आवाज सत्ता, नीति निर्माताओं तक पहुंचाना चाहते हैं समाज के सभी लोगों के विकास के बिना लोकतंत्र की संकल्पना को साकार करना असंभव है। प्रत्येक भारतीय नागरिक का यह कर्त्तव्य हो जाता है कि लोकतंत्र के सुदृढ़ीकरण के लिए लोकतांत्रिक तरीके से कार्यक्रम करके अपनी आवाज सत्ताधीशों तक पहुंचाएं। रैली के माध्यम से हम एक सजग नागरिक के कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं। गौरतलब है कि अखिल भारतीय तेली साहु महासभा की दो जून की रैली दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम नई दिल्ली में आयोजन किया गया है। जिसमें 25 हजार से ज्यादा लोग भाग लेने की संभावना है। अखिल भारतीय तैलिक साहु महासभा के महासचिव आर एल गुप्ता ने कहा कि अखिल भारतीय तैलिक साहु महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयदत्त क्षीरसागर के कुशल नेतृत्व व मार्गदर्शन में कश्मीर से कन्याकुमारी व कच्छ से कोलकात्ता तक साहु समाज के प्रतिनिधियों में सामाजिक चेतना का संचार करने का कार्य वर्षों से चल रहा था।

जिसे दो जून को तालकटोरा दिल्ली में इंडोर स्टेडियम में देखा जा सकता है। दरअसल मोदी सरकार के कार्यकाल के अंतिम पड़ाव में तेली समाज को सं या के आधार पर राजनीति में उचित प्रतिनिधित्व देने, ओबीसी जनगणना के आंकड़े जारी करने व अन्य मांगों को लेकर सरकार की घेराबंदी करने की तैयारी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में यह विशाल रैली का आयोजन किया जा रहा है। अखिल भारतीय तैलिक साहु महासभा की इस खास रैली में महिलाओं में चेतना का संचार हुआ है, पूरे देश से महिलाएं भी रैली में शिरकत करने के लिए आ रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here